उत्तिष्ठ कौन्तेय


भारतके २९ राज्योंमेंसे आठ राज्योंमें हिन्दू अल्पसंख्यक; किन्तु उन्हें अभी तक नहीं मिली है अल्पसंख्यककी श्रेणी !

आठ राज्योंमें हिन्दुओंको अल्पसंख्यककी श्रेणी मिल सकती है ! मिली सूचनाके अनुसार, १४ जूनको होने जा रही राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोगकी बैठकमें  इस बातपर निर्णय लिया जा सकता है । बता दें कि भाजपा नेता अश्विनी उपाध्यायने सर्वोच्च न्यायालयमें आवेदन प्रविष्ट कर आठ राज्योंको हिन्दू अल्पसंख्यककी श्रेणी व अल्पसंख्यकोंको मिलनेवाले अधिकार भी दिए जानेकी मांग की थी । इन राज्योंमें लक्षद्वीप, जम्मू-कश्मीर, मिजोरम, नागालैंड, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर और पंजाब सम्मिलित हैं ।
इन राज्योंमें अभी तक हिन्दुओंको अल्पसंख्यकका अधिकार क्यों नहीं दिया गया ? क्या इस देशमें मात्र ईसाई और मुसलमान ही अल्पसंख्यक बनकर, सब सुविधाओंको पानेके अधिकारी हैं !
हिन्दुओं ! यह न समझें कि हिन्दू धर्म लुप्त नहीं हो सकता है, हम सबकी निष्क्रियता और अहिंदुओंके तुष्टिकरणने ही इन राज्योंमें हिन्दुओंको अल्पसंख्यक बनाया है, ऐसे धर्मद्रोही तत्त्वोंके हाथोंमें सत्ता न दें अन्यथा ये सब मिलकर थोडे ही समयमें इस राष्ट्र और हिन्दू धर्म दोनोंका नाश कर देंगे ! – तनुजा ठाकुर (२८.५.२०१८)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution