उत्तिष्ठ कौन्तेय !


युवा छात्र गोमांस भक्षण कर दे रहे हैं, अपनी आसुरी वृत्तिका परिचय !
केरलके पश्चात् तमिलनाडुमें भी पशु विपणिमें (बाजारमें) पशुवधके लिए पशुओंके क्रय-विक्रयपर प्रतिबन्धके केन्द्र शासनके निर्णयके विरोधमें गोमांस भक्षण भोजका (बीफ पार्टी) आयोजन, आईआईटी मद्रासके प्रांगणमें किया गया, जिसमें लगभग ५० छात्रोंने भाग लिया । एक समय था, जब गुरुकुलमें गोरक्षण हेतु छात्र संकल्पबद्ध होते थे और आज छात्र, गोमांस भक्षण जैसे आसुरी कृति कर, गर्व अनुभव करते हुए, इस तथ्यको सार्वजनिक करते हैं । ऐसे असुर समान वर्तन करनेवाले तथाकथित बद्धिजीवी छात्रोंसे इस देशके कल्याणकी कोई अपेक्षा रख सकता है क्या ? इससे ही हमारी निधर्मी और आसुरी मैकाले शिक्षण पद्धतिने युवा पीढीको किस प्रकार संस्कारित किया है ?, यह ज्ञात होता है; अतः इसे हटाकर वैदिक शिक्षण पद्धति शीघ्र अति शीघ्र अपनाना चाहिए, जहां मांसाहारसे हानि एवं पशुवध क्यों नहीं करना चाहिए ? इसका शास्त्रीय आधार बताया जाएगा किन्तु क्या यह निधर्मी लोकतन्त्रमें सम्भव है ?अतः अब हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना करना अपरिहार्य हो गया है । (३०.५.२०१७)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution