चुनाव प्रचारके मध्य देखनेको मिलते हैं आजके नेताओंका वीभत्स स्वरूप !


वर्तमान प्रजातन्त्रका यदि वीभत्स स्वरूप देखना हो तो चुनावके समय अवसरवादी सत्तालोलुप नेताओंके कुकृत्योंका निरीक्षण करना चाहिए । चुनावमें जीत पाने हेतु राष्ट्रहित एवं प्रजाहितको छोड, वे स्वहित साध्य करने हेतु किसी भी सीमातक गिर सकते हैं । इस स्थितिको परिवर्तित करने हेतु हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना करना अनिवार्य हो गया है । -परात्पर गुरु ) तनुजा ठाकुर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution