उतिष्ठ कौन्तेय


 १. ‘बिग बास्केट’ने हिन्दुओंके विरोधके पश्चात ‘झटका’ मांस विक्रय करनेका लिया निर्णय
 ‘ऑनलाइन’ खाद्यान्न भण्डार ‘बिग बास्केट’ने गत दिवसोंमें ग्राहकोंसे कहा था कि उनके यहां केवल ‘हलाल मांस’ विक्रय किया जाता है । लोगोंने इसके पश्चात इसका विरोध किया । लोगोंका कहना था कि ‘बिग बास्केट’का यह निर्णय उन लोगोंके प्रति भेदभावपूर्ण है, जिन्हें उनकी धार्मिक मान्यताएं ‘हलाल मांस’ खानेकी अनुमति नहीं देती है । लोगोंने यह भी पूछा कि क्या आप केवल मुसलमानोंकी ही मांगकी पूर्ति करते हो ? इस कडे विरोधके कारण ‘बिग बास्केट’ने ‘झटका मांस’ विक्रय करनेका निर्णय लिया है ।
 हिन्दुओ, इसी प्रकार हिन्दुओंसे धन अर्जित करनेवाले; परन्तु जिहादियोंके पोषक ऐसे संस्थानोंका मुखर होकर वैध मार्गसे विरोध करते रहें तो निश्चित ही एक दिवस ‘विजय श्री’ हमारी ही होगी ! आज हिन्दू संगठित रूपसे विरोधकर रहा है और इसका परिणाम भी दिखने लगा है । आज यदि ‘बिग बास्केट’ झुक सकता है तो कल सम्पूर्ण विश्व भी झुकेगा, इसी प्रकार स्वर मुखरित करते रहें !
—–
२. ‘टिक-टॉक’का भारतीय कर्मचारियोंको चीन विरोधी ‘वीडियो’ हटानेका आदेश
 ‘टिक-टॉक’द्वारा भारतमें कार्यरत अपने सभी कर्मचारियोंको एक ‘ईमेल’से सूचित किया गया है कि चीनी प्रशासनके विरुद्ध किसी भी सामग्रीको ‘टिक-टॉक’पर स्थान नहीं दिया जाए ! बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा और तिब्बतके समर्थनसे सम्बन्धित सभी सामग्रीको हटानेके निर्देश दिए गए हैं । सामाजिक प्रसार माध्यमोंपर लोग ‘टिक-टॉक ऐप्प’को चीनके समर्थनमें बताते हुए इसे ‘अनइनस्टॉल’ करनेके लिए अभियान चला रहे हैं । उनका मानना है कि ‘टिक-टॉक’पर जिहादी गतिविधियोंसे हिन्दुओंके प्रति विद्रोहको बढावा देनेवाले ‘वीडियो’के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है ।
  चीनके संस्थान ‘बाइटडांस’द्वारा बनाया गया ‘टिक-टॉक’ भारत विरोधी गतिविधियोंमें लिप्त तो है ही, साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षाके लिए भी चिन्ताका विषय है । इस ऐप्पलिकेशनद्वारा अनेक जिहादी ‘जिहाद’का प्रसार करते हैं । भारत शासन ‘टिक-टॉक’को शीघ्र ही समूचे देशमें प्रतिबन्धित करे और सभी हिन्दू भी इसे अपने चलभाषसे हटा दें ! (१६.०५.२०२०)
—–
३. ‘एआइएमआइएम’ विधायक अब्दुल्ला बलालाने गृहबन्दीके कारण बन्द सेतु (फ्लाईओवर) बलपूर्वक खुलवाया
 ‘ऑल इण्डिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन’के विधायक अहमद बिन अब्दुल्ला बलालाने गृहबन्दीके कारण बन्द भाग्यनगरके (हैदराबादके) दबीरपुरा ‘फ्लाईओवर’को बलपूर्वक खुलवाया है । बलालाको असदुद्दीन ओवैसीका विश्वासपात्र माना जाता है । वे पहले भी कई बार गृहबन्दीके नियमोंका उल्लंघनकर ‘हॉटस्पॉट’ क्षेत्रोंको बलपूर्वक खुलवा चुके हैं । भाजपा विधायक राजा सिंहने आपत्ति प्रकट करते हुए कहा है कि बलालाके विरुद्ध कडी कार्यवाही की जानी चाहिए । उन्होंने कहा कि ओवैसीके दलके विधायक और उनके अन्य लोग भाग्यनगरके ‘पुराने शहर’में गृहबन्दीके (लॉकडाउन) नियमोंका पालन नहीं कर रहे हैं ।
 इसमें शंका नहीं है कि जिहादी ही आज देशमें कोरोना महामारीके कारण चल रही इस विनाशलीलाके मूल हैं । ऐसेमें ओवैसीके विधायकोंद्वारा यह दुस्साहस कठोर दण्डकी श्रेणीमें आता है । अब ओवैसी तो कोई कार्यवाही करेंगे नहीं तो केन्द्र ही इसपर कडा संज्ञान ले ! (१७.०५.२०२०)
—–
४. ‘कोरोना’ जांच हेतु बोले जानेपर मध्यप्रदेशमें जिहादियोंने की वृद्ध हिन्दू महिला सहित दो लोगोंकी हत्या
 मध्य प्रदेशमें भिंडके प्रेमनगर क्ष्रेत्रमें दो पडोसियोंके मध्य विवाद बढनेपर जिहादियोंके परिवारने वृद्ध हिन्दू महिलाकी हत्या कर दी ! पडोसी कपूरे खांका जामाता (दामाद) देहलीसे आया हुआ था, जो घरके बाहर बैठा हुआ था । कला जाटव नामक पडोसकी वृद्ध महिलाने उसे अपनी जांच करानेका परामर्श दिया । यही बात बादमें विवादमें परिवर्तित हो गई । कपूरे खांके परिवारने छतसे उनपर पत्थर बरसाए, जिससे महिलाकी उसी समय मृत्यु हो गई तथा दो अन्य भी गम्भीर रूपसे चोटिल हो गए । सूचना प्राप्त होनेपर पुलिस बलने उन्हें चिकित्सालय पहुंचाया; किन्तु वृद्धाके भाईने भी चिकित्सालयमें प्राण त्याग दिए । इसी मध्य जमाता व कपूरे खां परिवार सहित भाग गए, तदुपरान्त पुलिस अधिकारी उदयभान सिंहद्वारा कपूरे खांको पांच लोगों सहित बन्दी बनाया जा चुका है और उनपर हत्याका प्रकरण प्रविष्ट किया गया है ।
 स्पष्ट है कि जिहादी यदि पडोसी हो तो वह ‘भाईचारे’के योग्य नहीं है; क्योंकि वे तो छोटीसे छोटी बातपर हिन्दुओंके भी प्राण ले सकते हैं, तो ऐसी विक्षिप्त मानसिकताके लोगोंके साथ ‘भाईचारा’ कोई करे भी तो कैसे ? (१७.०५.२०२०)
—–
६. महाराष्ट्रमें ‘रमजान’में नहीं हो रहा सामाजिक दूरीका पालन
 भाजपा नेता किरीट सोमैयाने शुक्रवार, १५ मईको सामाजिक जालस्थलपर एक ‘वीडियो’ साझा किया, जो ‘शिवाजी नगर गोवंडी मार्ग नम्बर २’का है । वह एक मुस्लिम बहुल क्षेत्र है, वहां रमजानके कारण अत्यधिक भीड एकत्र हुई है, जबकि पुलिस वहांपर अनुपस्थित है और किसीने भी सामाजिक दूरीके नियमोंका पालन नही किया । उल्लेखनीय है कि इसी क्षेत्रसे १००० से ही अधिक ‘कोरोनो’के प्रकरण सामने आए हैं । भाजपा नेताने शिवाजी नगर सदृश क्षेत्रोंमें सशस्त्र बलोंकी तत्काल नियुक्तिकी मांग की है ।
 महाराष्ट्र प्रशासनके तुष्टीकरणका परिणाम आज समूचा महाराष्ट्र भोग रहा है । कभी हिन्दुओंकी बात मुखरतासे बोलनेवाली शिवसेना ऐसा छलकर सकती है तो यही कहा जा सकता है कि राजनेताओंका कोई धर्म नहीं होता है और ऊपरसे भाजपा सशस्त्र बलोंको भी वहां नियुक्ति करवाकर फंसाना चाहती है ! अब जिहादी समझानेसे तो मानेंगे नहीं, यह सभी देख चुके हैं तथा सशस्त्र बलोंको आपने गोली मारनेके आदेश जम्मू-कश्मीरमें नहीं दिए तो यहां क्या आशा करें ? अतः अब सभी हिन्दू धर्मराज्यकी स्थापना ही शिवाजी महाराजके स्वप्नोंको पूर्ण कर सकते हैं ! (१६.०५.२०२०)
——
७. ब्रिटेन दूरदर्शन विभागके नियामकने आतंकी जाकिर नाईकके ‘पीस टीवी’पर घृणात्मक व्याख्यान प्रसारित करनेपर लगाया अर्थदण्ड
 ‘टाइम्स ऑफ इण्डिया’ नामक समाचार पत्रने एक समाचार साझा किया, जिसके अनुसार ब्रिटेन राष्ट्रमें प्रसार नियन्त्रक संस्था ‘यूके मीडिया वॉच डॉग ऑफकॉम’द्वारा आतंकी जाकिर नाईकके ‘पीस टीवी’पर घृणात्मक व्याख्यान प्रसारित करनेके विरोध स्वरूप २.७५ कोटि रूपएका आर्थिक दण्ड लगाया गया है । संस्थाके अनुसार ‘पीस टीवी’ ब्रिटेनके मुसलमान नागरिकोंको हत्या करनेके विषयमें निरन्तर उत्तेजितकर व अन्य समुदायके व्यक्तियों हेतु अपमानजनक शब्दोंका प्रयोग करता आ रहा है, जो ब्रिटेन राष्ट्रके प्रसार नियमोंके विरुद्ध है; अतः इसी कारण ‘पीस टीवी उर्दू’के अनुज्ञापत्र (लाइसेंस) धारकको १८३ लाख रुपए व पीस टीवीको ९१ लाख रुपएका आर्थिक दण्ड लगाया गया है ।
 अब विश्वके अन्य राष्ट्रोंको भी इस्लामकी नीतियोंके विषयमें भान हो चला है, तो अब अर्थदण्डसे कुछ नहीं होगा । सभी राष्ट्र इन्हें अपने देशोंसे प्रतिबन्धित करे !
(१७.०५.२०)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution