उत्तिष्ठ कौन्तेय


चेतन भगतका हिन्दूद्रोह, कहा कि हिन्दू धर्म विरोधी चलचित्र बनानेमें कोई बुराई नहीं 
   उपन्यासकार चेतन भगतने सामाजिक जालस्थल ‘ट्विटर’पर कुछ दिवस पूर्व प्रदर्शित हुई अनुष्का शर्माद्वारा निर्मित अन्तर्जालपर प्रसारित शृंखला (वेब सीरीज) ‘पाताल लोक’पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हिन्दू विरोधी चलचित्र बनानेमें कोई बुराई नहीं है; हमें इन्हें मनोरञ्जनके रूपमें अवश्य देखना चाहिए । उन्होंने यह भी साझा किया कि यह तो मात्र एक नाट्य रूपान्तर है और हम सभीको अपनी भावनाओंको व्यक्त करनेका अधिकार है, ऐसे चलचित्रोंका विरोध न करें ! उल्लेखनीय है कि ‘पाताल लोक’को लेकर धर्मप्रेमियोंद्वारा तीव्र प्रतिक्रिया दी जा रही है और इसपर पूर्णतः प्रतिबन्ध लगानेका शासनसे अनुरोध किया जा रहा है ।
       लेखनीके नामपर फुहडता परोसनेवाले कथित उपन्यासकारसे इसके अतिरिक्त अपेक्षा भी क्या की जा सकती है ? विडम्बना है कि ऐसा करनेवाले भी हिन्दू ही हैं, ऐसे मैकॉले शिक्षित बुद्धिभ्रष्ट हिन्दुओंके कारण ही आज हिन्दू धर्मकी यह स्थिति है, जिसे अब परिवर्तन करनेकी आवश्यकता है । (२७.०५.२०)
**********
 राजस्थानके राजसमंदमें सन्त प्रेमदासपर दुष्कर्मका आरोप लगानेपर सन्तने की आत्महत्या
   राजस्थानके राजसमंदके दिवेर थाना क्षेत्रके गुना गांवमें महादेव मन्दिरके सन्त प्रेमदासने रविवार, २४ मईको अपने आश्रममें फांसी लगाकर आत्महत्याकर ली । इससे पूर्व ‘वीडियो’पर सन्देश मुद्रित (रिकॉर्ड) किया, जिसमें बताया गया कि कुछ दिवस पूर्व एक महिलाने उनपर दुष्कर्मका आरोप लगाया, जिसके पश्चात उसके पति और महिला आयोगकी सदस्या सहित ५ लोगोंने १५ लाख रुपएकी मांग की और आत्मसम्मान व सन्त सम्मानको बचानेके लिए उन्होंने आत्महत्याकर ली । समाचारके अनुसार गुना निवासी एक दम्पति कुछ समय पूर्व सन्त प्रेमदासके आश्रममें उदर वेदनाकी (पेट दर्दकी) समस्या लेकर पहुंचे थे, कुछ दिवस पश्चात पतिने अपनी पत्नीको सन्तके पास जानेको कहा । महिलाने घर आकर सन्तपर दुष्कर्मका आरोप लगाया तथा दोनोंने दिवेर थानेमें इनके विरुद्ध प्राथमिकी प्रविष्ट करवाई । अब पुलिस ‘वीडियो’के आधारपर प्रकरणकी जांचकर रही है ।
    हिन्दूद्रोही शक्तियां साधु-सन्तोंपर महिलाओंके लिए बने कडे विधानका दुरुपयोगकर उन्हें अपमानित करती हैं, इसका कारण है शासकगणकी हिन्दू सन्तोंकी अनदेखी करना और ‘नार्को’ परीक्षणको स्वीकृति न देना; अतः अब साधु-सन्तोंकी रक्षा हेतु हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना अत्यावश्यक है । (२७.०५.२०२०)
**********
‘एबीपी’की पत्रकार रुबिका लियाकतको कट्टरपन्थियोंने कहे अपशब्द 
    प्रायः अपनी मुखर वृत्ति व पत्रकारिताके कारण इस्लामिक कट्टरपन्थियोंके लक्ष्यपर रहनेवाली ‘एबीपी’की पत्रकार रुबिका लियाकतने ईदके अवसरपर अपना एक चित्र साझा किया, जिसमें वह पीले परिधानमें (वस्त्रमें) दिखाई दे रही हैं ।
इस चित्रको साझा करते हुए उन्होंने लिखा, “ईद मुबारक और येलो ट्विटर भी  ।” इसके पश्चात अनेक कट्टरपन्थी इस चित्रको देखकर भडक गए ।
आलम नामक व्यक्तिने रुबिकाके इस ‘पोस्ट’पर लिखा, “तुझे तो शीघ्र आत्महत्याकर लेनी चाहिए, रुबिका; क्योंकि अभी मोदी जीवित है, तेरी मूर्तिको नागपुरके मुख्यालयमें स्थापित करा देगा  ।” एक जिहादीने रूबिकाको ‘दलाल’ कहा और वहीं डार वसीमने कहा कि ‘भगवा ध्वज आपपर अच्छा लगता है, इससे आपके ‘आका’ प्रसन्न होंगे  ।”
   सभी हिन्दू और कोई भी विवेकशील मुसलमान, जिहादियोंको विषतुल्य प्रतीत होते हैं, ‘फतवा’ निकालते हैं; क्योंकि वे उनके इस्लामके कथित नियमोंके विरुद्ध चलते हैं और हम हिन्दुओंकी ऐसी स्थिति है कि ढोंगी कथा वाचकोंको पवित्र व्यासपीठपर बैठाकर और उनके साथ भागवत कथामें ‘अली-मौलाकर’ उसकी पवित्रताको नष्ट करते हैं । धर्मनिरपेक्ष हिन्दुओ, अब तो कमसे कम नेत्र खोलें और ऐसे जिहादियोंके विरुद्ध मुखर हों ! (२७.०५.२०२०)
**********
हरिद्वारमें विवाहका झांसा देकर जिहादियोंने किया युवतीसे सामूहिक दुष्कर्म
    हरिद्वारके सिडकुलमें भाडेपर रह रही एक युवतीके साथ सामूहिक दुष्कर्मका प्रकरण उजागर हुआ है । पीडिताके एक औद्योगिक संस्थानमें कार्यरत थी । उसी समय उसकी भेंट आरोपी अहबाब अलीसे हुई । उसने युवतीसे कहा कि वह ‘कॉन्ट्रैक्टर’ है और उसकी शीघ्र ही चाकरी (नौकरी) लगवा सकता है । उसने युवतीसे बातचीत आरम्भ की और अपने व्यापारमें भागीदार (पार्टनर) बनानेका लालच देकर युवतीसे कुछ धन भी ले लिया, उसे विवाहका झांसा देकर व्यापारिक यात्राके (बिजनेस टूरके) नामपर देहरादून और ऋषिकेशके विश्रामालयोंमें (होटलमें) मादक पदार्थ खिलाकर अचेत अवस्थामें उससे शारीरिक सम्बन्ध बनाकर अश्लील वीडियो बनाया तथा चित्र भी ले लिए । कुछ दिवस पश्चात जब उसने आरोपी अहबाबपर युवतीने विवाहका दबाव बनाया तो वह ‘लॉकडाउन’में व्यापारमें हानिकी बात कहकर विवाहसे मनाकर गया तथा विश्रामालयमें बनाई गई ‘वीडियो’ और चित्र अपने भाई परवेजको दे दी । तदुपरान्त परवेजने ‘वीडियो’से भयादोहनकर (ब्लैकमेलकर) कई बार बलपूर्वक उसके साथ दुष्कर्म किया ! युवतीने बताया कि २० दिवस पूर्व परवेजने उसे कलियर थाना क्षेत्रमें बुलाया, जहां उसने अपने तीन मित्रों अहबाब, हनीस, हुसैन और वसीके साथ मिलकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया ! पुलिसने आरोपियोंके विरुद्ध आरोप प्रविष्टकर जांच आरम्भकर दी है ।
    जिहादी हिन्दू युवतियोंको ‘लव जिहाद’में फंसाकर उनका जीवन नष्टकर देते हैं; इसलिए हिन्दू युवतियोंको धर्मकी शिक्षा देकर धर्माभिमानी बनाना अत्यन्त आवश्यक है, यह अब हिन्दू माता-पिताको समझना ही होगा ! (२६.०५.२०)
**********
 रेड्डी शासनमें मन्त्री कृष्णा राजूने आन्ध्र प्रदेशमें बृहद स्तरपर हो रहे धर्मान्तरणको स्वीकारा 
   ‘टाइम्स नाऊ’पर एक वाद-विवादमें जगनमोहन रेड्डी शासनके मन्त्री रघु कृष्णा राजूने इस बातको स्वीकार किया कि आन्ध्र प्रदेशमें धर्मान्तरणकी प्रक्रिया तीव्रतासे चालू है; परन्तु इसमें प्रशासनका कोई हाथ नहीं है उसके पश्चात वे यह कहते सुनाई दिए कि वे ये नहीं कह रहे कि धर्मान्तरणकी प्रक्रिया राज्यमें चल रही है, वरन वे तो यह कह रहे हैं कि यह समूचे देशमें हो रहा है । रघु इस मध्य धर्मान्तरणको उचित बतानेके लिए भारतके धर्मनिरपेक्ष होनेका सन्दर्भ देते दिखे । मन्त्रीने यह भी कहा कि यह सब ‘मिशनरी’के पास ‘मनी पॉवर’के कारण हो रहा है, जिसका प्रयोग वे धर्मान्तरणके लिए कर रहे हैं, इसपर पत्रकारने इसे अवैध बताया और कहा कि ऐसेमें वे स्वयं क्या कर रहे हैं ? इसपर रघु बार-बार यही कहते रहे कि इसमें हम क्या कर सकते हैं ? ये सब समूचे देशमें हो रहा है ।
      यदि रेड्डी शासन धर्मान्तरण रोकनेमें असफल है तो ऐसे शासनको सत्तामें रहनेका अधिकार नहीं है; रेड्डी शासनके कारण आन्ध्र प्रदेशमें धर्मान्तरण खुलेमें हो रहा है; परन्तु यह भी कटु सत्य है कि यह समूचे देशमें हो रहा है और कोई भी राजनीतिक दल इसे अवैध होते हुए भी रोक नहीं पा रहा; अतः हिन्दुओंने अब यह कार्य स्वयं ही करना होगा और ‘मिशनरी’को अपने क्षेत्रोंसे भगाना होगा !
**********
 झारखण्डमें आम चुनने गई युवतीसे तीन जिहादियोंने किया दुष्कर्म
      झारखण्डके राजमहल क्षेत्रके नवाबडेरीमें तीन जिहादियोंने एक अवयस्क हिन्दू युवतीके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया है ! युवतीके पिताके आरोपके अनुसार, लडकी घरके पिछवाडेमें आम चुनने गई थी, उस समय आन्धी चल रही थी तो आरोपी उसके मुखपर वस्त्र लपेटकर बांसकी झाडियोंमें ले गया, जहांपर पहलेसे ही दो और जिहादी छुपे बैठे हुए थे । कोलाहल करनेपर उसे चाकूसे मार डालनेकी धमकी दी गई । तीनोंने मिलकर बारी-बारीसे उसके साथ दुष्कर्म किया । पुलिसको सूचना मिलनेपर एक आरोपीको बन्दी बना लिया गया है । पुलिस अधीक्षक अनुरंजनके निर्देशपर ‘एसआई’ सुषमा कुमारीने चिकित्सालय पहुंचकर पीडिताका विवरण लिया । युवतीने दुष्कर्मकी सूचना अपने माता-पिताको खेतोंसे लौटनेपर दी । युवतीने कहा कि वह उनका अभिज्ञानकर (पहचान) सकती है । वहांके ग्रामीणोंने राजपथपर वाहनके ‘टायर’ जलाकर विरोध प्रदर्शन किया और अपराधियोंको बन्दी बनाए जानेकी मांग की । थाना प्रभारी रंजीत प्रसादके अनुसार उन्हें किसी भी दशामें क्षमा नहीं किया जाएगा । उसमेंसे एक आरोपीको सेनाका कर्मी बताया जा रहा है ।
       आसुरी प्रवृतिके इन जिहादियोंको यदि हम हिन्दू अपने गांवोंमें घुसने ही न दें तो न ही हिन्दू युवतियोंका जीवन नष्ट होगा और न ही हिन्दुओंको वाहनोंके ‘टायर’ जलानेकी आवश्यकता होगी ! जिहादी पोषक शासकगणके नेत्र मूंदकर बैठनेपर तो यही कहा जा सकता है । (२७.०५.२०२०)
**********
गोहत्यारेको पकडने गए पुलिस दलपर जिहादियोंका आक्रमण
     उत्तर प्रदेशके शामली जनपदके झिंझाना थाना क्षेत्रमें गोहत्यारे अफजलको पकडने गए पुलिस दलपर जिहादियोंने आक्रमणकर दिया, जिसमें एक उप निरीक्षक (सब इंस्पेक्टर) समेत ३ पुलिसकर्मी घायल हो गए । आक्रामक भीडने पुलिसके दो वाहनोंको तोड डाला ।  घटना मंगलवार देर रातकी है । पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवालने बताया कि भादविकी विभिन्न धाराओंके अन्तर्गत १०० लोगोंके विरुद्ध प्रकरण पंजीबद्धकर गोहत्यारे अफजल समेत ३० लोगोंको बन्दी बनाया जा चुका है ।
इससे पहले सोमवारको एक सूचनाके आधारपर टपराना पहुंची पुलिसने गोवंश कटानकी पूर्वसिद्धताकर रहे जिहादी युवक शाहनवाजको अपनी अभिरक्षामें (कस्टडीमें) लिया था । उसके दो भाई इकराम व इमरान भाग गए । पुलिसने घटनास्थलसे चोरी किया गया एक बछडा व काटनेके उपकरण हस्तगत किए । बताया जा रहा है कि पकडा गया जिहादी युवक शाहनवाज इससे पूर्व भी गोवंशों काटनेके आरोपमें कारागृहकी यात्राकर चुका है ।
      जब उत्तर प्रदेश जैसे राज्यमें एक न्यायप्रिय और कुशल प्रशासनिक क्षमतावाले मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथके होते हुए भी ये जिहादी इतने दुस्साहसी हैं तो शेष भारतमें क्या स्थिति होगी ? कल्पना करें !
**********
ईदका उत्सव मनानेके लिए दी विशेष छूट : उद्धवके जिहादी तुष्टीकरणकी शिवसेनाके मुखपत्र सामनाने ही खोली पोल
    जबसे उद्धव ठाकरे महाराष्ट्रके मुख्यमन्त्री बने हैं, शिवसेनापर तुष्टीकरणकी राजनीतिको बढावा देनेके आरोप लगते रहे हैं । अब उसके मुखपत्र सामनामें प्रकाशित एक लेखसे चौंकानेवाला रहस्योद्घाटन हुआ है । इस लेखके अनुसार महाराष्ट्रके मुंब्रामें समुदाय विशेषके लोगोंको गृहबन्दीके पश्चात भी ईद मनानेके लिए विशेष छूट दी गई ।
      उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों मुंब्रामें कोरोना संक्रमितोंकी संख्यामें अनायास वृद्धिको देखा गया था । देशकी इस आर्थिक राजधानीसे कोरोनाके बडी संख्यामें प्रकरण उजागर हो रहे हैं । सत्ताधारी पक्ष ‘नेशनलिस्ट कॉंग्रेस पार्टी’के नेता जितेंद्र आव्हाड भी पिछले महीने कोरोना संक्रमित पाए गए थे । सामान्य लोगोंकी बात तो जाने ही दें, राज्यकी आन्तरिक सुरक्षा सम्भालनेवाले पुलिसकर्मियोंके भी संक्रमणके प्रकरण सामने आ रहे हैं । अबतक २१०० पुलिसकर्मी इस महाराष्ट्रमें कोरोना संक्रमित हो चुके हैं । कईकी असमय मृत्यु तो चिकित्सा वाहनोंके समयपर न मिलनेके कारण हो चुकी है ।
       जब मुम्बईमें  महामारीका संक्रमण इतना अधिक है तब तो ईद मनानेके लिए छूट देना, अक्षम्य है । यदि आज यहां कांग्रेस या ‘NCP’का शासन होता तो यह बात इतनी पीडादायक नहीं होती; परन्तु शिवसेना जो एक समयमें हिन्दू हितचिन्तक दल माना जाता था, उसकेद्वारा यह निर्णय लिया जाना अत्यन्त लज्जाजनक है । कोई व्यक्ति यदि विषके भण्डारपर विषका विक्रय करे तो  आश्चर्य कैसा ! किन्तु अमृतके भण्डारपर ‘विष’के विक्रय जैसा है यह निर्णय ! हिन्दुओंके मतसे चुनाव जीतनेवाले, हिन्दूविरोधी निर्णय लेंगे, यह अक्षम्य है । इस निर्णयने प्रमाणितकर दिया है कि वर्तमान शिवसेना, मुस्लिम लीगसे भी घातक हो चुकी है ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution