केरलके मुख्यमन्त्रीका हिन्दूद्रोह, महिलाओंसे बनवाएंगें ६०० किमीकी श्रृंखला !


दिसम्बर २, २०१८

केरल सरकार सबरीमालामें महिलाओंके प्रवेशका विरोध करने वालोंके विरुद्घ १ जनवरीको ६०० किमी लम्बी महिला श्रृंखला बनाएगी । यह श्रृंखला कासरगोडसे तिरुवनंतपुरम तक बनेगी । केरलके मुख्यमन्त्री पी विजयनने कहा कि यह श्रृंखला राज्यकी धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशीलता छविको देशके समक्ष रखेगी । इस निणयको मंदिरमें महिलाओंके प्रवेशके समर्थनपर शक्ति प्रदर्शनके रूपमें देखा जा रहा है ।

विजयनने रविवार, २ दिसम्बरको महिलाओंके प्रवेशका समर्थन करने वाले ५० से अधिक सामाजिक संगठनोंके साथ बैठक की । उन्होंने कहा कि हम केरलके प्रगतिशील समाजको अंधेरेमें नहीं धकेल सकते । सबरीमाला मंदिरमें न्यायालयके प्रत्येक आयुकी महिलाओंके प्रवेशके आदेशके विरुद्घ राज्यभरमें प्रदर्शन कर रहे हिन्दूवादी संगठनोंको लेकर राज्य सरकारने सामाजिक संगठनोंकी बैठक बुलाई थी ।

विजयनने बताया कि बैठकमें भाग लेने वाले सभी सामाजिक संगठनोंने न्यायखलयके आदेशका विरोध कर रहे लोगोंके विरुद्घ १ जनवरीको कासरगोडसे तिरुवनंतपुरम तक महिलाओंकी दीवार बनानेका निर्णय किया । इससे हम पूरे देशको केरलकी प्रगतिशील सोचके बारेमें बताएंगे ।

विरोध प्रदर्शनोंको लेकर भाजपाने केरलमें चार सदस्यीय केन्द्रीय समिति भेजी है । यह समिति १५ दिवसमें अपना यौरा भाजपाके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाहको सौंपेगी । इस समितिमें राज्य सभा सांसद सरोज पांडे, प्रहलाद जोशी, नलिन कुमार कतील, विनोद सोनकर सम्मिलित हैं ।

 

“ईश्वरके समक्ष शक्ति प्रदर्शन करने वाला भक्त नहीं हो सकता, क्योंकि भक्त तो आज्ञाकारी व नियमोंका पालन करने वाला होता है; अतः राज्यके सव कार्योको छोड केवल हिन्दू धर्मकी विडम्बनामें गत दो माहसे लगे  ईसाई मुख्यमन्त्रीकी यह विधर्मियोंकी श्रृंखला निरर्थक ही है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution