योगीके राम मन्दिरपर वक्तव्यपर सन्तोंने कहा, ‘२०१९ की सत्ता भाजपाको नहीं’


सितम्बर २, २०१८

अयोध्‍यामें राम मन्दिर निर्माणके प्रकरणपर शनिवारको मुख्‍यमन्त्री योगी आदित्‍यनाथद्वारा दिए वक्तव्यपर विवाद आरम्भ हो गया है । अयोध्‍याके सन्तोंने विरोध दिखाते हुए कहा कि रामलला सत्ता देते भी हैं और छीनते भी हैं  ! २०१९ में भाजपाको सत्ता मिलने वाली नहीं है ।

शनिवारको योगीने एक कार्यक्रममें राम मन्दिर निर्माणसे सम्बन्धित प्रश्नके उत्तरमें कहा था कि जो कार्य होना है वह होकर ही रहेगा । उसे कोई टाल नहीं सकता । नियतिने जो निर्धारित किया है, वह होकर ही रहेगा ।

रविवारको अयोध्‍याके सन्तोंने मुख्‍यमन्त्रीके इसी वक्तव्यपर कडी प्रतिक्रिया दी । श्री रामललाके मुख्‍य पुजारी आचार्य सतेन्द्र दासने इस पर कहा कि दो सांसदों से लेकर सत्ता तक बीजेपीको भगवान रामने भेजा । यही नेता सत्तामें रहनेके पश्चात अयोध्या आकर भाषा बदल लेते हैं । उन्‍होंने कहा कि गिरगिटके समान भाषा और स्वरूप बदलना भगवान रामके साथ छल है ! आपके घोषणा पत्रमें राम मन्दिर था, उसका क्‍या होगा ? रामलला सत्ता भी देते हैं और सत्ता छीन भी लेते हैं । २०१९ की सत्ता बीजेपीको मिलने वाली नहीं है !

अयोध्या तपस्वी छावनीके महंन्त स्वामी परमहंसने कहा कि योगी आदित्यनाथका वक्तव्य अनुचित है । भगवान रामकी कृपासे भाजपा सत्तामें आई । यह इनका कर्तव्य है कि अयोध्यामें राम मन्दिरका निर्माण करें । केन्द्र और राज्य शासनको निरर्थक वक्तव्य नहीं देना चाहिए । यदि ऐसा नहीं हुआ तो एक अक्टूबर से आमरण अनशन करेंगे !

वहीं दूसरी ओर अयोध्या बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारीने मुख्‍यमन्त्री योगी आदित्‍यनाथके वक्तव्यका समर्थन किया । उन्‍होंने कहा कि लोग अनहोनी वाले कार्यको अल्लाह और भगवानपर छोडते हैं । अयोध्‍याका प्रकरण न्यायालयमें है । निर्णय न्यायालयको करना है । अल्लाह और भगवान चाहेंगे तब निर्णय हो जाएगा ।

श्रीराम जन्मभूमि न्यासके वरिष्ठ सदस्य महंन्त कमलनयन दासने भी योगीके वक्तव्यका समर्थन किया है । कमलनयन दासका कहना है कि योगी आदित्यनाथके मनमें राम जन्मभूमिको लेकर पीडा बहुत है । वह चाहते हैं कि राम मन्दिर बने । सन्त समाज आश्‍वस्‍त है कि अक्टूबर तक न्यायालय निर्णय देगा । अक्टूबर तक निर्णय नहीं आया तो सन्त महात्मा हिन्दू समाज सब प्रकार से राम मन्दिरके लिए सज्ज है ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution