बीएसएफ जवानसे बर्बरताका भारतने लिया बदला, मारे ११ पाकिस्तानी सैनिक, सीमा छोड भागे दुश्मन !!


सितम्बर २९, २०१८

भारत-पाकिस्तान अन्तर्राष्ट्रीय सीमाके (आईबी) जम्मूमें बीएसएफके मुख्य सुरक्षाकर्मी नरेन्द्र शर्माके साथकी गई बर्बरताका बदला ले लिया गया है । गृह मन्त्री राजनाथ सिंह और बीएसएफके महानिदेशक केके शर्माने इसकी पुष्टि की । शर्माने कहा कि नियन्त्रण रेखापर (एलओसी)  दो दिवस पूर्व हुई इस प्रथम कार्यवाहीके पश्चात पाकिस्तानी सेना और पाक बलके विरुध्द अगली कार्यवाहीकी भी पूरी सिद्धता है ।

राजनाथ सिंहने मुजफ्फरनगरमें कहा कि सेना और बीएसएफको अपनी आवश्यकताके अनुसार सीमापर कार्यवाहीकी छूट है । शर्माने शुक्रवारको बताया कि दो दिवस पूर्व एलओसीपर बीएसएफने सेनाकी सहायतासे भीषण कार्यवाही की । इसमें पाकिस्तानी सेना और बलके ‘कम से कम’ ११ जवान मार गिराए गए !

शर्माके अनुसार, १९ सितम्बरकी घटनाके पश्चात बीएसएफकी कार्यवाहीके भयसे पाकिस्तानी सेनाने ‘आईबी’पर अपनी सीमाके पांच किमीका क्षेत्र रिक्त कर दिया था । इससे बीएसएफ आईबीपर कोई कार्यवाही नहीं कर पा रही है । आने वाले दिवसोंमें पाक सेना और बलके विरूद्ध कई बडी कार्यवाहीकी सिद्धता है ।

शर्माने कहा कि इमरानके प्रधानमन्त्री बननेसे सीमापर आक्रामकता बढी है । ‘आईबी’पर पाकिस्तानने प्रथम बार ‘बैट अभियान’ कर भारतको बडी चुनौती दी है । नरेन्द्र शर्माके साथ “बैट’के अन्तर्गत ही बर्बरता की गई !
डीजीने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय सीमाके पास दर्जनों ‘लॉन्चिंग पैड’ है । इनमें से कुछ तो सीमासे केवल पांच से सात किलोमीटरपर हैं । यहां सैकडों आतंकियोंको प्रशिक्षण दिया जा रहा है । अवसर मिलते ही वह प्रशिक्षित आतंकियोंको घुसपैठ करानेका प्रयास करेंगे ।

 

“सेनाके इस अदम्य साहसका हम ‘वैदिक उपासना पीठ’की ओरसे अभिनन्दन करते हैं । सेना ही अधर्मी व बर्बर पाकिस्तानसे देशवासियोंका रक्षण करती है”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution