संस्कृतनिष्ठ हिंदी

स्वभाषाभिमान


यूरोप धर्मयात्राके मध्य मैंने पाया कि वहांके लोगोंमें स्वभाषाभिमान कूट-कूट कर भरा हुआ है । वहां अंग्रेजी भाषाको लोग निकृष्ट दृष्टिसे देखते हैं और अपनी भाषा बोलनेमें गर्व अनुभव करते हैं । वहीं स्वभाषाभिमान रहित भारतीय हिन्दू जो वहां रह रहे हैं, वे अपनी सन्तानोंको अपनी भाषा बोलना, पढना और लिखना नहीं सिखा पाते हैं […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution