सन्त चरित्र

खरे सन्तोंको सहने पडते हैं अत्यधिक विरोध !


संवत १६३१ का प्रारम्भ हुआ, दैवयोगसे उस वर्ष रामनवमीके दिन वैसा ही योग आया जैसा त्रेतायुगमें राम-जन्मके दिन था । उस दिन प्रातःकाल तुलसीदासजीने श्रीरामचरितमानसकी रचना……

आगे पढें

प.पू. देवरहा बाबा, एक सिद्ध महातपस्वी


भारतके उत्तर प्रदेशके देवरिया जनपदको एक योगी, सिद्ध महापुरुष एवं सन्तने अपने नामसे ख्याति दिलाई । वे अपने चमत्कारसे सहस्रों लोगोंको तृप्त करते रहे । सहज, सरल और सुलभ बाबाके सान्निध्यमें जैसे वृक्ष, वनस्पति भी स्वयंको आश्वस्त अनुभव करते रहे । कुछ ऐसे ही थे चमत्कारिक, अलौकिक रहस्यमयी ‘देवरहा बाबा’ । प. पू. देवरहा बाबाकी […]

आगे पढें

गुरु अंगद देव


गुरु अंगद देव सिक्ख धर्मके दूसरे गुरु हैं । विक्रमसंवत् अनुसार वैशाख कृष्णपंचमीके दिवस, गुरु अंगददेवजीकी पुण्यतिथि है जो ख्रिस्ताब्द २०१७ में १६ अप्रैलको है । इसी उपलक्ष्यमें हम उनके जीवन चरित्रका सूक्ष्म अवलोकन करेंगे । गुरु अंगददेवजीको पंजाबी भाषा, गुरुमुखीका जनक माना जाता है । अंगददेवजीने गुरु नानकके लेखनको संग्रहित करनेके साथ-साथ उनका प्रचार […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution