भारतमें धर्म विशेषके विरुद्ध लेखोंको प्रतिबन्धित कर रहा फेसबुक, पहले मना किया था


दिसम्बर ३०, २०१८

‘फेसबुक’ने अपने लेख परिनियामकोंको (कंटेंट मॉडरेटर्सको) निर्देश दे रखे हैं कि वह भारतमें एक धर्म विशेषके विरुद्ध लेखोंको ‘फ्लैग’ करें; क्‍योंकि यह स्‍थानीय विधानका (कानूनका) उल्‍लंघन है । ‘द न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स’के मिले लिखित-पत्रोंमें (दस्‍तावेजोंमें) यह उजागर हुआ है । परिनियामकोंके यह निर्देश कम्पनीकी अन्तर्राष्ट्रीय नीतिसे नहीं मिलते हैं । समाचार माध्यमोंके समक्ष भी ‘फेसबुक’ने जो कहा, यह प्रक्रिया उससे भिन्न है ।  देहली स्थित कार्यालयमें ‘फेसबुक’की ‘ग्‍लोबल पॉलिसी सॉल्‍यूशंस’के उप-संचालक रिचर्ड एलनने कहा था कि फेसबुक किसी धर्म या विश्‍वासकी आलोचनाको ‘हेट स्‍पीच’ नहीं मानता, बल्कि व्‍यक्तियोंके समूहपर आक्रमणको ‘हेट स्‍पीच’की श्रेणीमें रखता है ।


एलनने तब कहा था, “किसी धारणापर प्रहार करना घृणित वक्तव्य नहीं है, परन्तु आप यह नहीं कह सकते कि आप व्‍यक्तियोंके किसी समूहसे घृणा करते हैं ! हम इन्‍हीं कुछ क्षेत्रोंपर वाद-विवाद करते हैं । कुछ लोग इसे विवादित मानते हैं ।” यह विवरण फेसबुककी लेख परिनियमन दिशा निर्देशोंके (कंटेंट मॉडरेशन गाइडलाइंसके) बारेमें बताते १४०० से अधिक रहस्योद्घाटित लिखित-पत्रोंपर (लीक दस्‍तावेजोंपर) आधारित है । इसमें फेसबुकके भारत और पाकिस्‍तानमें नियमोंसे सम्बन्धित एक ‘पावरप्‍वॉइंट स्‍लाइड’ भी है ।

इसमें एक चित्रकेद्वारा लेख परिनियमनके (कंटेंट मॉडरेशनके) समय, चार श्रेणियोंको ध्‍यानमें रखनेको कहा गया है । इनमें ‘तार्किक रूपसे अवैध सामग्री’, ‘जब शासन सक्रिय होकर पारित करे, तब स्‍थानीय विधानका आदर’, ‘देशमें फेसबुकको प्रतिबन्ध किए जानेका संकट हो, या वैधानिक संकट हो’, तथा ‘फेसबुक नीतियोंका उल्‍लंघन न करता सामग्री’ हो।

गुप्त रूपसे हुई एक बैठकमें फेसबुक कर्मचारीने इस अन्तरको समझाते हुए एक धर्मका उदाहरण दिया था । कंपनी इस्‍लामके विरुद्ध लिखनेकी अनुमति देती है, परन्तु मुसलमानोंके विरुद्ध लिखनेको ‘हेट स्‍पीच’ माना जाएगा और वह विषय हटाना होगा । फेसबुकके ‘कम्‍युनिटी स्‍टैंडर्ड्स’के अनुसार, “हम घृणित वक्तव्यको लोगोंपर सीधे प्रहारके रूपमें परिभाषित करते हैं ।” ‘धार्मिक मान्‍यता’ फेसबुककी संरक्षित श्रेणियोंमेंसे एक है ।

‘फेसबुक इंडिया’के प्रतिनिधियोंने भारतसे जुडे विषयोंपर अलगसे कुछ नहीं कहा, परन्तु एक फेसबुक लेखमें विवरणका उत्तर दिया है । ‘टाइम्‍स’ विवरणके अनुसार, एक ‘स्‍लाइड’में कहा गया है कि भारतीय विधान ‘स्वतन्त्र कश्‍मीर’ लिखनेकी आज्ञा नहीं देता ।

फेसबुकका विवरण यह दिखाता है कि वह ऐसे विषय तीव्रतासे हटा रही है, जो उसकी दृष्टिमें ‘हेट स्‍पीच’ है । २०१७ की अन्तिम त्रैमासिकमें १६ लाख लेखोंकी तुलना २०१८ की तृतीय त्रैमासिकमें ३० लाख लेख हटाए गए ।

 

“गत वर्षोंमें ‘फेसबुक’का मनमाना आचरण सामने आया है । सनातनके पक्षमें कुछ भी लिखनेपर त्वरित पेज बन्द कर दिया जाता है और उसके पश्चात खोला भी नहीं जाता है । ऐसेमें धर्म प्रसार एक अपराध बन गया है । धर्मके आधार लेकर सत्यको दबाया जाता है ।” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution