गुरु उवाच : हिन्दुओंको भारतमें कोई भी नहीं पूछता !


‘धर्मान्ध अपने धर्मकी शिक्षाका पालन करते हैं; इसलिए पूरे संसारके लिए भारी पड रहे हैं । इसके विपरीत हिन्दुओमें तथाकथित आधुनिकतावादी बुद्धिप्रमाणवादी और धर्मद्रोही, धर्मके विषयमें सन्देह उत्पन्नकर तथा फूट डालकर, हिन्दुओंको दुर्बल करते हैं । इस कारण हिन्दुओंको भारतमें भी कोई नहीं पूछता !’ – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution