नष्ट हो जाएगी काशी, शिवके वास्तुसे खेल रहा है शासन !


जुलाई १०, २०१८

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदीने जब अपने संसदीय क्षेत्र काशीको ‘क्योटो’ बनानेकी बात कही तब काशीको जानने और समझने वालोंके मनमें यह प्रश्न बार-बार आया कि इतिहाससे भी पुरानी नगरी काशीको कोई ६०० वर्ष पुराने इतिहास वाले क्योटोके समान क्यों बनाना चाहता है ? क्या यह घोषणा सोच समझकरकी गई या इसके पीछे केवल ‘काशी और क्योटो’की शाब्दिक वक्तव्य भर था ?

काशीको क्योटो बनानेके इसी क्रममें काशी विश्वनाथ मन्दिरके विस्तारीकरणके लिए बनारसके ‘ललिता घाट’से विश्वनाथ मन्दिरतक दो सौ से अधिक भवन चिन्हित किए गए हैं, जिन्हें तोडा जा रहा है । इनमें लगभग ५० की संख्यामें प्राचीन मन्दिर व मठ सम्मिलित हैं । ये सभी ‘काशी विश्वनाथ कॉरिडोर’की सीमामें आने वाले मन्दिर हैं ।


इन प्राचीन मन्दिरों, देव विग्रहोंकी रक्षाके लिए आन्दोलनरत शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्दके शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द १२ दिवसके उपवासपर बैठे हैं । स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्दका कहना है कि काशीका ‘पक्का महाल’ ऐसे वास्तु विधानसे बना है, जिसे स्वयं भगवान शिवने मूर्तरूप दिया था । ऐसे में ‘काशी विश्वनाथ कॉरिडोर’के कारण ‘पक्का महाल’के पौराणिक मन्दिरों और देव विग्रहोंको नष्ट करनेसे काशी ही नष्ट हो जाएगी !

स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्दका कहना है कि ‘पक्का महाल’ ही काशीका मन, मस्तिष्क और हृदय है । पक्का महाल ऐसे वास्तु विधान से बना है जिसे स्वयं भगवान शिवने मूर्तरूप दिया था । ऐसे में इसके नष्ट होनेसे काशीके नष्ट होनेका संकट है । यह केवल काशीके एक भाग ‘पक्का महाल’ अथवा यहां रहने वालोंकी बात नहीं है, बल्कि सवा सौ कोटि देशवासियोंकी आस्थाका प्रश्न है । देशके भिन्न-भिन्न भागोंसे पुराणों/ग्रन्थोंमें पढकर लोग अपने आराध्य देवी-देवताओंके दर्शन करने काशी आते हैं । ऐसे में जब वे काशी आएंगे, तब अवश्य पूछेंगे कि उनके देवी देवता कहां गए ?

स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द आगे कहते हैं कि यह विषय रामजन्म भूमिसे भी वृहद है; क्योंकि अयोध्यामें केवल एक मन्दिरकी बात है; लेकिन यहां हमारे पुराणोंके उपरोक्त परम्परासे पूजित अनेक मन्दिरोंकी बात है । अभी हम शास्त्रोंके अनुसार ही विरोध कर रहे हैं; लेकिन यदि शासन राजनीतिसे प्रेरित होकर यह अपेक्षा करेगी कि वह जनदबावसे ही मानेगी, तब हम जनताका आह्वान भी करेंगे ! ऐसे में यह प्रश्न अवश्य उठेगा कि जो दल मन्दिर बनानेके नामपर सत्तामें आया था, उसने मन्दिरोंको क्यों तोडा ?

स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्दका कहना है कि हम शासनकी किसी योजनाके विरोधमें नहीं हैं । शासन जनताके हितमें ही कोई योजनाएं लाती हैं । हमारा विरोध केवल इतना है कि किसी भी विग्रह और मन्दिरोंको अपमानित ना किया जाए, अपूजित ना रखा जाए, उनके स्थानसे उन्हें न हटाया जाए ! इतना सुरक्षित रखते हुए यदि ‘कॉरिडोर’का निर्माण हो तो हमें कोई आपत्ति नहीं ।

‘पक्का महाल’की अवधारणा काशीके गंगा तटपर अस्सी से राजघाटतक की है । कहा जाता है कि काशीको समझना हो तो ‘पक्का महाल’को समझना आवश्यक है । यह क्षेत्र कई संस्कृतियोंको समेटे हुए है । देशका ऐसा कोई राज्य नहीं, जिसका प्रतिनिधित्व ‘पक्का महाल’ न करता हो । भिन्न-भिन्न राज्योंके प्राचीन भवन व वहां पूजे जाने वाले पौराणिक मन्दिर और देव विग्रह इसी क्षेत्रमें स्थित हैं । जिनके दर्शन करने समूचे देशसे लोग आते हैं । ‘पक्का महाल’में बंगाली, नेपाली, गुजराती, दक्षिण भारतीय समुदायोंके अपने-अपने उपक्षेत्र हैं ।

काशीमें विकासके बहुतसे कार्य हुए हैं; लेकिन पौराणिक महत्व रखने वाले धरोहरोंको कभी नष्ट नहीं किया गया, न ही इन्हे छेडा गया; लेकिन आज काशीका यही ‘पक्का महाल’ विकासकी भेण्ट चढने जा रहा है । सहस्त्रों वर्ष प्राचीन धरोहरको मिटानेके षडयन्त्रको विकासका चोला पहना दिया गया है, जिससे काशीका हृदय कहे जाने वाला ‘पक्का महाल’ इन दिनों भयभीत सा है; क्योंकि इसके अस्तित्वपर संकट खडा हो गया है !

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution