‘एएमयू’में बढा तनाव, १४ छात्रोंपर राजद्रोहका अभियोग, ५६ के विरुद्घ अजमानतीय आदेश !!


फरवरी १३, २०१९


अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटीमें उपद्रव बढता जा रहा है । भारतके विरुद्घ नारेबाजी करनेवाले १४ छात्रोंपर राजद्रोहका अभियोग प्रविष्ट किया गया है । प्रकरण बढते देख जालस्थल सेवाएं बंद कर दी गई हैं । समूचे परिसरको छावनीमें परिवर्तित कर दिया गया है । साथ ही अगले २४ घंटेमें होनेवाले सभी कार्यक्रमोंको निरस्त कर दिया गया है । ५६ छात्रोंको बन्दी बनानेके लिए तैयारी चल रही है ।

बता दें कि एएमयू छात्रसंघने मंगलवार, १२ फरवरीको सामाजिक विज्ञान अध्यापकोंके ‘कॉन्फ्रेंस हॉल’में कई राजनीतिक दलोंके नेताओंकी बैठक बुलाई थी । इस कार्यक्रममें ‘ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन’के नेता असदुद्दीन ओवैसीको भी आमन्त्रित किया गया था । ओवैसीके कार्यक्रमका कुछ लोगोंने विरोध किया था । छात्रके एक दूसरे गुटने पीटा, जिसके बाद बवाल बढने लगा ।


इस मध्य एएमयू परिसरमें छात्रके गुटोंने घूम-घूमकर कथित रूपसे राष्ट्र विरोधी उद्घोष लगाए । इतना ही नहीं, कहा जा रहा है कि छात्रोंने पाकिस्तानके समर्थनमें भी नारेबाजी की । पुलिसको छात्रोंकी इस नारेबाजीका एक विडियो मिला है, जिसके आधारपर इन छात्रोंको चिह्नित किया गया है।


एसपी अलीगढने बताया कि एएमयूमें वातावरण बिगाडनेवाले कई छात्रोंको चिह्नित किया गया है । ५६ ऐसे छात्र हैं, जिनपर पहलेसे आपराधिक प्रकरण प्रविष्ट हैं, इन छात्रोंको बन्दी बनानेके लिए न्यायालयसे गैर जमानती आदेश निकलवाया जा रहा है । एसपी ने बताया कि जिन ५६ छात्रोंको चिह्नित किया गया है, उन्हें एएमयूसे निष्कासित करनेके लिए प्रशासनको पत्र लिखा जा रहा है ।

 

“आतंकी छात्र भविष्यनिर्माता नहीं भविष्यको नष्ट करनेवले हैं; अतः शासन इन्हें शिक्षासे निष्कासितकर सभी शैक्षणिक उपाधियां वापस लेकर घर वापस भेजें, यही राष्ट्रहितमें है !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ


स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution