‘ट्विटर’पर ‘Paratpar Guru’ ‘ट्रेंड’ समूचे दिवस उच्च स्थानपर !


१ जून, २०२२
      परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजीके ८० वें जन्मदिवसके अवसरपर २२ मईके दिन सवेरेसे ‘#Hindu Ekta Dindi’ इस ‘हैशटैग’ने तथा ‘Paratpar Guru’ (परात्पर गुरु), इन ‘की-वर्ड्स’ने ‘ट्विटर’पर ‘ट्रेंड’ किया गया । सवेरे आरम्भ किया गया यह ‘ट्रेंड’ कुछ ही समयमें राष्ट्रीय स्तरपर प्रथम दस क्रमाङ्कपर था । ‘#Hindu Ekta Dindi’ चतुर्थ क्रमाङ्कपर तथा ‘Paratpar गुरु’ ‘की-वर्ड’ समूचे दिवस राष्ट्रीय स्तरपर चर्चाका विषय था । दोपहर १२.३० को १४ वें क्रमाङ्कपर, दोपहर २.३० बजे २१ वें क्रमाङ्कपर, जबकि सायंकाल ५.४५ पर भी २५ वें क्रमाङ्कपर यह ‘ट्रेंड’ कर रहा था ।
      ‘#Hindu Ekta Dindi’ ‘हैशटैग’पर २७ सहस्रसे भी अधिक ‘ट्वीट्स’ किए गए तथा परात्पर गुरु नामसे २० सहस्रसे भी अधिक ‘ट्वीट्स’ किए गए ।
     एकाध विषय ‘ट्रेंड’ होने लगे, तो लगभग २-३ घण्टोंतक ही वह प्रथम ३० क्रमाङ्कोंमें रहता है; पर ‘Paratpar Guru की-वर्ड’ समूचे दिवस राष्ट्रीय ‘ट्रेंड’पर था । इससे परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजीके नामपर किए गए ‘ट्रेंड’का महत्त्व ध्यानमें आता है । हिन्दू राष्ट्रकी स्थापनाका दैवी ध्येय हृदयमें संजोकर तथा जिनकी प्रेरणासे राष्ट्रीय स्तरपर धर्म एवं राष्ट्र उत्थानका अद्वितीय कार्य विगत ३ दशकोंसे भी अधिक समयतक निरन्तर चल रहा है, ऐसे परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजीकी कीर्ति दिगंत होनेकी यह प्रतीति ही है ।
        हिन्दू राष्ट्रकी स्थापनाका लक्ष्य देकर, हिन्दू समाजको जाग्रत करनेवाले परम पूज्य परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजीके मार्गदर्शनमें अनेक हिन्दू, धर्मका पालनकर साधना करने हेतु प्रयासरत हैं । ऐसेमें ‘ट्विटर’पर  परात्पर गुरुका ‘हैशटैग ट्रेंड’ होना कोई आश्चर्यका विषय नहीं है; अपितु यह संकेत है कि अब हिन्दुओंमें अपने धर्मके प्रति चेतना जाग्रत हो चुकी है, जो एक शुभ संकेत है । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution