उत्तरी कर्नाटकको भिन्न राज्य बनानेकी मांग, आज बुलाया गया बन्द


अगस्त २, २०१८

उत्तरी कर्नाटकको भिन्न राज्य बनानेकी मांगको लेकर आज कई संगठनोंने बन्द बुलाया है । इसको लेकर कई प्रान्तोंमें सुरक्षा व्यवस्था बढा दी गई है । इस बन्दका नेतृत्व ‘राज्य आन्दोलन समिति’ कर रही है । इसका प्रभाव उत्तरी कर्नाटकके १३ प्रान्तोंमें पड सकता है ।

यह मांग काफी समयसे उठाई जा रही है । इस मध्य राज्यके मुख्यमन्त्री एचडी कुमारस्वामीने बुधवारको इसपर कहा कि ये बन्द भाजपाद्वारा प्रायोजित है, इसका कोई प्रभाव नहीं पडेगा ।

इस मांगको गत वर्तमानमें तेजी आई है, जिसके कारण बन्द बुलाया गया है । पहले ऐसे अनुमान लगाया जा रहा था कि गठबन्धन शासनमें उप-मुख्यमन्त्रीका पद उत्तरी कर्नाटकके ही किसी नेताको मिल सकता है । राज्य शासनमें जल संसाधन मन्त्री एम. बी. पाटिल इसमें सबसे आगे बताए जा रहे हैं ।

इसके अतिरिक्त भी उत्तरी कर्नाटकसे आने वाले कई विधायकोंने ऐसी परिवाद की है कि आयव्ययकमें (बजटमें) इस क्षेत्रपर ध्यान नहीं दिया गया है । कोहराम इसलिए भी अधिक हुआ; क्योंकि आयव्ययकके पश्चात कुमारस्वामीने वक्तव्य दिया था कि उत्तरी कर्नाटकके लोगोंको शासनको धन्यवाद देना चाहिए; क्योंकि उन्होंने जेडीएसको मत नहीं दिए, तथापि अच्छा आयव्ययक (बजट) दिया गया है ।

आपको बता दें कि उत्तरी कर्नाटक बीजेपीका गढ है । यहांके लगभग १२ प्रान्तोंमें ८० विधानसभा क्षेत्र आते हैं । बीजेपीके मुख्य नेताओंमें जगदीश शेट्टर और प्रह्लाद जोशी इसी क्षेत्रसे आते हैं । बीजपी इस दुर्गके आश्रय सत्ता कर्नाटकमें कमल खिला चुकी है ।

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution