धर्मान्ध वसीमने महाशिवरात्रिके भंडारेका टेंट उखाडा, क्षेत्रमें तनाव !!


मार्च ५, २०१९
महाशिवरात्रिपर पुलिस चौकीके समीप ब्रह्मदेव महाराज धर्मस्थलपर शिवरात्रिपर हो रहे धार्मिक कार्यक्रम व प्रसाद वितरणको धर्मान्धोंने रुकवा दिया । टेंट उखाडकर फेंकनेसे तनाव हो गया । सूचनापर कई भाजपा और व्यापारी नेता पहुंच गए । उन्होंने हंगामा किया तो भारी पुलिस बल आ गया । चौकीमें पंचायत हुई तो धीमी ध्वनिमें ध्वनिप्रसारक यन्त्र बजानेके अनुबन्धपर (शर्तपर) पूजन जारी रखनेकी सन्धि हो गई और उपद्रव टल गया ।

उपमण्डलमें पुलिस चौकीके बगलमें ब्रह्मदेव स्थलपर भगवान शिवकी प्राचीन प्रतिमा है । महाशिवरात्रिपर प्रत्येक वर्ष पूजन कार्यक्रम होता है । सोमवार, ४ मार्चको अखिल भारतीय हिंदू महासभाके जिलाध्यक्ष सूरज राठौर और उनके मित्र अंकित शर्मा आदिने प्रातःकाल मंदिरपर टेंट लगाकर भजन और प्रसाद वितरण आरम्भ किया था । धर्मस्थलके पीछे ‘आयत ट्रेडर्स’के स्वामी कय्यूम सेठके पुत्र वसीम आदिने दुकानके सामने पूरा स्थान घेरकर हल्ला करनेका आरोप लगाते हुए आयोजकोंसे टेंट हटानेको कहा । प्राचीन परम्परा बताते हुए टेंट हटानेसे मना किया तो वसीमने स्वयं ही टेंट उखाड दिया !!
ब्रह्मदेव स्थलपर सैकडोंकी संख्यामें लोग एकत्र होने लगे । आयोजकोंकी सूचनापर युवा भाजपा नेता/उप्र प्रांतीय उद्योग व्यापार समितिके नगर अध्यक्ष आशीष अग्रवाल, भाजपा मंडल अध्यक्ष अजय सक्सेना, सुचित अग्रवाल, सत्यप्रकाश अग्रवाल सहित सभी भाजपाई, व्यापारी नेता वहांपर पहुंच गए । थाना प्रभारी राजकुमार तिवारी भी तुरंत बलके साथ आ गए और भीडको समझाकर शांत करानेका प्रयास किया । थाना प्रभारीने दोनों पक्षोंको पुलिस चौकीपर बुलवाया । भाजपा नेताओंकी उपस्थितिमें निर्धारित हुआ कि ध्वनिप्रसारक यन्त्र धीमी आवाजमें बजाकर दोपहर दो बजेतक पूजन, भजन-कीर्तन, प्रसाद वितरणका अनुष्ठान होगा । कोई विवाद नहीं किया जाएगा ।

 

“धार्मिक आयोजनोंपर ध्वनिप्रसारक यन्त्रको तीव्र ध्वनिमें बजाना अशास्त्रीय विधान है, सभी हिन्दुओंने यह ध्यान रखना चाहिए । तीव्र ध्वनिसे केवल शोर होता है और देव शक्तियां वहां उपस्थित नहीं रहती है । कर्णकर्कश यन्त्रोंके स्थानपर ढोल आदिका प्रयोग उचित है; परन्तु विचात्र यह है कि धर्मान्ध वसीमको शिवरात्रिका आयोजन शोर लग रहा है और मस्जिदकी प्रातःकाल ४ बजेसे लेकर ५ समयकी अजान भाती है, यह तो धर्मान्धता और इस्लामिक विषका प्रतीक है ! वस्तुतः वसीम यह करता है, इसलिए नहीं कि उसे शोर पसन्द नहीं, वह तो यह इसलिए करता है; क्योंकि काफिरोंका कोई भी कृत्य उसे पसन्द नहीं है ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution