संत वाणी

संतवाणी


विश्वके सभी धर्मोंके व्यक्तियोंकी आध्यात्मिक उन्नतिके लिए हिन्दू धर्मके अतिरिक्त अन्य पर्याय नहीं, यह सत्य सर्व व्यक्तियोंके ध्यानमें आए इसलिए हिन्दू धर्म प्रसार एवं सभीको धर्म शिक्षण देना आवश्यक है । – पूज्य डॉ. वसंत बाळाजी आठवले

आगे पढें

अमृतवाणी


गुरुपादुकाका मूल्य प्राणोंसे भी अधिक है ! एक भक्तको गुरुके दर्शन नहीं हुए | दूसरा भक्त गुरुसे मिले, तब गुरुके उनके पुत्रके विवाहके निमित्त उन्हें पादुका दी | यह देखनेपर पहले भक्तने कहा “तुम मुझे यह गुरु पादुका दे दो मैं तुम्हें अपनी सम्पूर्ण जीवनमें अर्जित संपत्ति देता हूं” | दूसरे भक्तने उसे पादुका दे […]

आगे पढें

अमृतवाणी


संत तुलसी दास रचित रामचरित मानसके बालकांडसे उद्धृत गुरु वंदना * बंदउँ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि। महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर॥ भावार्थ : मैं उन श्रीगुरुके चरणकमलकी वंदना करता हूं, जो कृपाके समुद्र और नर रूपमें श्री हरि ही हैं और जिनके वचन महामोह रूपी घने अन्धकारका नाश करनेके […]

आगे पढें

गुरुकी आवश्यकता


गुरुकी परम आवश्यकता होती है । उपनिषद कहता है कि मात्र गुरु ही मनुष्यको बुद्धि और इन्द्रियोंके भ्रम रूपी वनसे बाहर निकाल सकता है; अतः गुरु होना ही चाहिए । – रमण महर्षि

आगे पढें

संत वाणी


जिसका मन संसारके किसी वस्तुसे अस्थिर नहीं होता वे परम तत्त्वको प्राप्त कर चुके होते हैं ! – स्वामी विवेकानंद

आगे पढें

दुःखका कारण


अधिकांश मानव थोडे-अधिक प्रमाणमें दु:खी है क्योंकि उन्हें अपने आत्मस्वरूपका ज्ञान नहीं | खरा सुख आत्मज्ञानमें निहित है | – रमण महर्षि

आगे पढें

भवसागरसे पार जानेका मूल मंत्र


जिसने इंद्रियोंके मायाजालको अपने वैराग्यकी तलवारसे काटकर पृथक  कर दिया हो वह ही इस भवसागरसे निर्विघ्न पार जा सकता है | – आदिगुरु शंकराचार्य

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution