संत वाणी

सन्त वाणी


जिसकी बुद्धि नष्ट हो जाती है, वह मनुष्य सदा पाप ही करता रहता है । पुन:-पुन: किया हुआ पुण्य बुद्धिको बढाता है । – वेदव्यास

आगे पढें

सन्त वाणी


अपनी पीडा सह लेना और दूसरे जीवोंको पीडा न पहुंचाना,  यही तपस्याका स्वरूप है । – संत तिरुवल्लुवर

आगे पढें

सन्त वाणी


फल, मनुष्यके कर्मके अधीन है, बुद्धि, कर्मके अनुसार आगे बढनेवाली है तथापि विद्वान् और महात्मा लोग भली-भांतिसे विचारकर ही कोई कर्म करते हैं । – चाणक्य

आगे पढें

सन्त वाणी


गुणोंसे ही मनुष्य महान होता है, ऊंचे आसनपर बैठनेसे नहीं । महलके कितने भी ऊंचे शिखरपर बैठनेसे भी कौआ गरुड नहीं हो जाता । – आर्य चाणक्य

आगे पढें

सन्त वाणी


माना जाता है कि मनुष्य जिस संगतिमें रहता है, उसकी छाप उसपर पडती है । उसका निज गुण छुप जाता है और वह संगतिका गुण प्राप्त कर लेता है | – सन्त एकनाथ

आगे पढें

सन्त वाणी


जिसने इच्छाका त्याग किया है, उसको घर छोडनेकी क्या आवश्यकता है  और जो इच्छाका बंधुआ श्रमिक है, उसको वनमें रहनेसे क्या लाभ हो सकता है ? सच्चा त्यागी जहां रहे वहीं वन और वही भवन, कंदरा है । – वेदव्यास

आगे पढें

सन्त वाणी


नेत्रसे अच्छी प्रकार देख-भालकर पांव धरे, वस्त्रसे छान कर जल पिए, शास्त्रसम्मत बात कहें और मनको सदैव पवित्र रखें । आप सदैव सज्जनतासे परिपूर्ण रहेंगे | – आचार्य चाणक्य

आगे पढें

सन्त वाणी


फल आनेसे वृक्ष झुक जाते हैं, वर्षाके समय बादल झुक जाते हैं, सम्पत्तिके समय सज्जन भी नम्र होते हैं, परोपकारियोंका ऐसा ही स्वभाव होता है । – गोस्वामी तुलसीदास

आगे पढें

सन्त वाणी


    जब भी आप किसी आध्यात्मिक मार्गपर चलनेवाले सक्षम मार्गदर्शकसे मिलते हो,  उससे अधिकसे अधिक ज्ञान और उपदेश लेनेका प्रयास करो । जिसप्रकार कोई भी खेत अपने आप कोई फसल नहीं देता, उसीप्रकार प्रत्येक ज्ञानी व्यक्ति अपना ज्ञान स्वयं वितरण करते नहीं फिरता | – श्री स्वामी समर्थ महाराज

आगे पढें

सन्त वाणी


गंगाजी प्राणीके पाप नष्ट करती हैं, चन्द्रमा प्राणीके तापको और कल्पतरु व्यक्तिकी दरिद्रताका नाश करता है; परन्तु श्रीगुरुकी एक पल भरकी दृष्टि भी प्राणीके पाप, ताप व दरिद्रताको हर लेती है – नरसिंह सरस्वती महाराज

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution