संत वाणी

सन्त वाणी


किसे सर्वदा सुख मिला है और किसे सर्वदा दु:ख मिला है ? सुख-दुख सबके साथ लगे हुए हैं । – कालिदास

आगे पढें

सन्त वाणी


धर्मसे अर्थ उत्पन होता है । धर्मसे सुख होता है । धर्मसे मनुष्य सब कुछ प्राप्त करता है । धर्म जगतका सार है । – वाल्मीकि

आगे पढें

सन्त वाणी


जिस मनुष्यकी बुद्धि दुर्भावनासे युक्त है तथा जिसने अपनी इंद्रियोंको वशमें नहीं रखा है, वह धर्म और अर्थकी बातोंको सुननेकी इच्छा होनेपर भी उन्हें पूर्ण रूपसे समझ नहीं सकता । – वेदव्यास

आगे पढें

सन्त वाणी


स्नेह शून्य सब वस्तुओंको अपने लिए मानते हैं । स्नेह संपन्न अपने शरीरको भी दूसरोंका मानते हैं  ।- तिरुवललुवर

आगे पढें

सन्त वाणी


ईश्वर न तो काष्ठमें विद्यमान रहता है, न पाषाणमें और न ही मिट्टीकी मूर्तिमें । वह तो भावोंमें निवास करता है । – चाणक्य

आगे पढें

सन्त वाणी


मनमें संतोष होना स्वर्गकी प्राप्तिसे भी बढकर है, संतोष ही सबसे बडा सुख है । संतोष यदि मनमें भली-भांति प्रतिष्ठित हो जाए तो उससे बढकर संसारमें कुछ भी नहीं है ।- वेदव्यास

आगे पढें

सन्त वाणी


 कबीर कहते हैं कि एक छोटेसे तिनकेकी भी कभी निंदा न करो जो तुम्हारे पांवोंके नीचे दब जाता है । यदि कभी वह तिनका उडकर नेत्रमें आ गिरे तो कितनी गहरी पीडा होती है ! – कबीर दास

आगे पढें

सन्त वाणी


वास्तवमें धीर पुरुष वे ही हैं, जिनका चित्त विकार उत्पन्न करनेवाली परिस्थितियोंमें भी अस्थिर नहीं होता । – कालिदास

आगे पढें

सन्त वाणी


स्वयं अपने गुणोंकी स्तुति करनेसे इन्द्र भी छोटा हो जाता है । – चाणक्य

आगे पढें

सन्त वाणी


जो मनुष्य नाश होनेवाले सब प्राणियोंमें समभावसे रहनेवाले अविनाशी परमेश्वरको देखता है, वही सत्यको देखता है । – वेदव्यास

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution