हिन्दू राष्ट्र

अकर्मण्यताका संदेश देता आजका राष्ट्रिय पर्व !


जब भी हिन्दू धर्म में कोई व्रत या त्योहार होता है हम उस दिन कुछ कर्म करते है जिससे हमारी आध्यात्मिक प्रगति हो सके और हमारी सात्त्विकता में वृद्धि के कारण समाज की समूहिक सात्त्विकता बढ़ सके ! मात्र राष्ट्रीय त्योहार के दिन हम सब अकर्मण्य अपने अपने घर में मनोरंजन का कोई साधन ढूंढ विश्राम लेते […]

आगे पढें

हिंदुओंमें सांघिक भावनाके अभावके परिणाम


जब भी हिन्दू संत, हिंदुत्वनिष्ठ या हिन्दुत्ववादी संस्थाको  षडयंत्रोंमें फंसाया जाता है तो अन्य हिन्दू संत, आध्यात्मिक संस्थाएं , हिंदुत्ववादी संस्थाएं, हिंदुत्ववादी राजनैतिक पक्ष सब अपना पल्ला झाड सब कुछ तटस्थ होकर देखते रहते हैं ! आजकी निधर्मी राज सत्ताका कोप आज नहीं तो कल सभी हिंदुओंको सहन करना ही पडेगा, जी हां, सभी को, […]

आगे पढें

क्या यह धर्मनिरपेक्ष सरकारकी हिन्दुत्वको अशक्त करनेकी कुटिल चाल नहीं है !!!


जैन, बौद्ध, सिक्ख ये सब हिन्दू धर्मके अभिन्न अंग है ऐसेमें उन्हें अल्पसंख्यककी मान्यता देकर उनको एक भिन्न पहचान देना कहाँ तक योग्य है !! क्या यह धर्मनिरपेक्ष ( हिन्दू धर्म द्रोही) सरकारकी हिन्दुत्वको अशक्त करनेकी कुटिल चाल नहीं है !!! इस प्रकार तो हिन्दू धर्ममें सभी संप्रदाय स्वयंको अल्पसंख्यक घोषित कर अपनी स्वार्थसिद्धि करने […]

आगे पढें

२०२५ तक भारत एक हिन्दू राष्ट्र बन जाएगा


ख्रिस्ताब्द २०२५  तक भारत एक हिन्दू राष्ट्र बन जाएगा ! ऐसेमें जिन-जिन तथाकथित धर्मनिरपेक्षोंको  हिन्दू राष्ट्रमें रहनेमें आपत्ति होगी उनके लिए एक विशेष प्रवाधान किया जाएगा, उन्हें किसी इस्लामिक राष्ट्रमें भेज दिया जाएगा जिससे वे वहां जाकर भाईचारे और धर्मनिरपेक्षताका संदेश उन्हें पढा कर, वे वहां एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रकी स्थापना कर महापुरुष की उपाधि पा […]

आगे पढें

हिंदुओंको आध्यात्मिक मधुमेह (diabetes) अर्थात् धर्मग्लानि हो गयी है


एक जिज्ञासुने कहा “आपके लेख सदैव कडवे सत्यको कडक शब्दोंमें उजागर करते हैं ।” मैंने कहा “क्या करें पिछले बारहसे चौदह शताब्दीसे लेकर आज तक सर्वधर्म समभाव रूपी मीठा-मीठा मिठाई खाते मीठा सुनते, कहते और देखते हम सभी हिंदुओंको आध्यात्मिक मधुमेह (diabetes) अर्थात धर्मग्लानि हो गयी है अतः अब करेलेके रसके सिवा दूजा कोई उपाय ही […]

आगे पढें

अनेक व्यक्तिको लगता है कि आज कि प्रजातांत्रिक भ्रष्ट एवं धर्मनिरपेक्ष व्यवस्थामें हिन्दु राष्ट्रकी स्थापना कैसे हो सकती है ?


हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना संतोंके संकल्पसे होगा । संतोंके मनमें आए इस इच्छाको साधक प्रवृत्तिके साधक जीव उसे ग्रहण कर, उनसे मार्गदर्शन लेकर और उन्हीं संतोंके कृपाके कारण स्थापित कर पाएंगे। हिन्दु राष्ट्रकी स्थापना हेतु हम सभी धर्मनिष्ठ और कर्तव्यनिष्ठ साधकोंको संतोंके मार्गदर्शनमें प्रयास करना होगा क्योंकि अभी तक अनेक हिंदुत्वनिष्ठ संस्थाएं बिना किसी संतके योग्य […]

आगे पढें

उत्तराखंडमें हुए भयावह नैसर्गिक त्रासदी जो मूलत: हमारे ही पापोंका परिणाम है


उत्तराखंडमें हुए भयावह नैसर्गिक त्रासदी जो मूलत: हमारे ही पापोंका परिणाम है वह पुनः न हो इस हेतु हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना परम आवश्यक ! २०२५ से भारत में हिन्दू राष्ट्की स्थापना होगी और तब सब कुछ ऐसा होगा ! १. संतों एवं स्थानीय श्रद्धालुओंके विरोध करनेपर भी उत्तराखंडमें हिन्दुओंके श्रद्धास्थान धारी देवी मंदिरको हटानेकी अनुमति […]

आगे पढें

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution