हिन्दू राष्ट्र

अनेक गुरुके भक्त कहते हैं कि हमारे कष्ट बढ गए हैं हम क्या करें ?


वर्ष २०२३ तक सभी साधक और सन्तवृन्दको तीव्रतम कष्ट होनेवाला है । कालचक्र विपरीत दिशामें घूम रहा है; अतः पूरे विश्वमें अभी कुछ वर्ष यह क्रम चलेगा । आपके (साधकोंके) कष्ट और आपके कुटुम्बको होनेवाले कष्टसे आपकी श्रद्धा ईश्वर और गुरुसे कम न हो और हम सब सकुशल जीवित रह जाएंं, यह इस कालकी सबसे […]

आगे पढें

साधको, टेक्सासकी घटनासे लें सीख !


जिस प्रकार तीव्र हिमपात जैसी प्राकृतिक आपदाके कारण संयुक्त राष्ट्र अमेरिकाके टेक्सासमें विद्युत संयन्त्रने (ग्रिडने) कार्य करना बन्द कर दिया और चारों ओर त्राहिमाम् मच गया । पेयजलकी समस्या हो गई । ठण्डसे लोग मरने लगे, अन्धेरेमें रहने हेतु बाध्य हुए, ऐसे कष्ट हमें अपने क्षेत्रोंमें भी हो सकते हैं; इसलिए प्रकाशकी वैकल्पिक व्यवस्था करके […]

आगे पढें

साधको सावधान ! तीसरे वैश्विक युद्धकी पृष्ठभूमि बनना आरम्भ हो चुकी है ।


साधको ! क्या आप सबको समझमें आ रहा है कि तीसरे विश्वयुद्ध होनेकी पृष्ठभूमि विश्वपटलपर होने हेतु घटनाक्रम आरम्भ हो चुका है ! एक बार विश्व युद्ध आरम्भ हो गया तो साधना करना और भी कठिन हो जाएगा; क्योंकि उस समय प्राणको बचाना हमारा प्रथम ध्येय होगा चाहे, वह स्वयंके प्राण हों, अपने कुटुम्बके प्राण […]

आगे पढें

धार्मिक अराजकता समाप्त होनेके लिए हिन्दू राष्ट्र आवश्यक !


आजके अनेक कथावाचकोंको व प्रवचनकरोंको भी अनिष्ट शक्तियोंका कष्ट है । इसके पीछे एक तो उनके जीवनमें योग्य गुरुका न होना है और दूसरा उनमें अनेक दोषों एवं तीव्र अहंका होना है । आप तो देख ही रहे है ऐसे कथावाचकोंने ……

आगे पढें

सन्तानें पालकोंका सम्मान करे, इस हेतु उनका भी वर्तन आदर्श होना चाहिए !


मैंने पाया है कि जैसे आजकी अनेक स्त्रियां अपने ससुरालवालोंसे स्नेह नहीं करती हैं और उनसे अपने पतिको भी दूर रखती हैं, वैसे ही आज अनेक सास-ससुर भी जैसा वर्तन अपनी पुत्री समान पुत्रवधूसे करना चाहिए, वैसा नहीं करते हैं । और यदि विवाहके आरम्भमें ही कुछ बहुत पीडादायक प्रसंग घटित हो जाए तो ऐसी […]

आगे पढें

आजके निधर्मी नेतागण व पूर्वकालके धार्मिक वृत्तिके राजाओंमें अन्तर !


पूर्वकालमें राजा-महाराजा भव्य मन्दिरोंका निर्माण कराकर, उनका अनुरक्षण (रखरखाव) राजकीय कोषसे करते थे और आज ही मुझे ज्ञात हुआ कि दक्षिण भारतके कुछ राज्योंके, प्राचीन मन्दिरोंकी वे देखभाल करते हैं एवं उन मन्दिरोंके न्यासके वे विश्वस्त …..

आगे पढें

तुष्टिकरणकी राजनीतिकी घृणित परम्पराका कोरोना महामारी में भी जारी !


रमजानका माह आरम्भ होते ही सब दूकाने खुल गयीं, यह जानते हुए भी की इस समुदायद्वारा महामारी हेतु बनाए गए नियमोंका पालन कदापि न होगा और मूढ नेतओ, अपने नेत्र खोलकर देखें, वे कैसे ९५ % जनताके गृह बंदीके प्रयासोंका उपहास कर रहे हैं …..

आगे पढें

धर्म अधिष्ठित हिन्दू राष्ट्र बनाने हेतु मृतवत हिन्दू समाजमें क्षात्रवृत्ति जाग्रत करना आवश्यक !


जिस धर्मनिरपेक्ष भारतमें नित्य गोवंशका वध हो, मंदिरोंको विकासके नामपर तोडा जाता हो, आतंकी हमारे सैनिक बन्धुके साथ छद्म युद्ध कर उनके प्राण लेने हेतु उतारु रहे, जहां विद्यालय एवं महाविद्यालयमें हमारे धर्मग्रन्थोंको पाठ्यक्रमका भाग बनानेकी अनुमति न हो, जहां हिन्दू अमरनाथकी यात्रा निर्भय होकर न कर सके एवं कैलाश पर्वत रुपी तीर्पक्षेत्रमें जाने हेतु […]

आगे पढें

सन्तों एवं ईश्वरीय तत्त्वद्वारा राष्ट्रद्रोहियोंके विरोध में क्षात्रतेजयुक्त विचार !


कल मेरी एक संतसे बात हो रही थी, वे भी देशमें जमातियों एवं जिहादियोंके उपद्रवसे बहुत क्रोधित थे और कह रहे थे कि उन्हें कारागारमें नहीं डालना चाहिए क्योंकि वे दुष्टबुद्धि है वहां भी कुछ दुष्टता ही करेंगे, उन्हें तो  सीधे गोली मारना चाहिए ! मैंने मनमें सोचा तो मेरे मनमें भी ऐसे राष्ट्रद्रोहियों एवं […]

आगे पढें

पुनः एक और चिकित्सकीय जांच दलपर जिहादियोंने प्राणघातक आक्रमण किए !


लीजिये, कल पुनः एक और चिकित्सकीय जांच दलपर जिहादियोंने प्राणघातक आक्रमण किए ! यह घटना उत्तर प्रदेशमें होना और भी आश्चर्यका विषय है; क्योंकि योगीजीके विषयमें तो अब सम्पूर्ण भारत जान ही चुका है !      कुछ लोग कहते हैं कि ये मूर्ख हैं इसलिए ऐसा कर रहे हैं, तो कुछ कहते हैं कि […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution