प्रेरक प्रसंग

प्रेरक प्रसंग : श्रमरहित पराश्रित जीवनसे हो जाते हैं विकासके द्वार बन्द


महर्षि वेदव्यासने एक कीडेको तीव्रतासे भागते हुए देखा । उन्होंने उससे पूछा,  “हे क्षुद्र जन्तु ! तुम इतनी तीव्रतासे कहां जा रहे हो ?” उनके प्रश्नने कीडेको चोट पहुंचाई और वह बोला, “हे महर्षि ! आप तो इतने ज्ञानी हैं । यहां क्षुद्र कौन है और महान कौन ? क्या इस प्रश्न और उसके उत्तरकी […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : पवित्र विचार व ईश्वरीय कृपा


एक समय दो साधक एक साथ रहते थे । दोनोंकी भक्तिका मार्ग भिन्न-भिन्न था । एक साधक दिनभर तपस्या और मन्त्रजप करते रहते थे, जबकि दूसरे साधक प्रतिदिन सवेरे-सायं पहले भगवानको भोग लगाते, तदुपरान्त स्वयं भोजन करते थे । एक दिन दोनोंके मध्य विवाद छिड गया कि बडा सन्त कौन है ? इसी मध्य वहां […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : महिमा राम नामकी


एक व्यक्ति हिम (बर्फ) बनानेवाली यन्त्रशालामें (कारखानेमें) कार्य करता था । एक दिवस ‘कारखाना’ बन्द होनेसे पूर्व वह अकेला प्रशीतक कक्षका चक्कर लगाने गया तो चूकवश द्वार बन्द हो गया और वह अन्दर ‘बर्फ’वाले भागमें फंस गया I अवकाशका समय था और सब कार्य करनेवाले लोग घर जा रहे थे । किसीने भी अधिक ध्यान […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : स्वामी विवेकानंदको मिली गुरु तत्त्वकी प्रतीति


एक दिवस स्वामी विवेकानंद एक रेलयान स्थानकपर (रेलवे स्टेशनपर) बैठे थे । उनका अयाचक व्रत (ऐसा व्रत, जिसमें किसीसे मांगकर भोजन ग्रहण नहीं किया जाता) था । इस व्रतमें वह किसीसे कुछ मांग भी नहीं सकते थे । एक व्यक्ति उनके उपहासके उद्देश्यसे उनके सम्मुख भोजन ग्रहण कर रहा था । स्वामीजीने दो दिवससे भोजन […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : विद्वतापर न करें कभी अहंकार


महाकवि कालिदास मार्गपर थे । तृष्णा लगी । वहां एक पनिहारिन पानी भर रही थी । कालिदास बोले : माते ! पानी पिला दीजिए बडा पुण्य होगा । पनिहारिन बोली : पुत्र ! मैं तुम्हें जानती नहीं । अपना परिचय दो । मैं पानी पिला दूंगी । कालिदासने कहा : मैं अतिथि हूं, कृपया पानी […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : कथावाचनका प्रभाव


एक राजाके पास एक विद्वान पण्डित आते थे, वह प्रतिदिन राजाको एक कथा सुनाते थे । राजा इस कार्य हेतु उन्हें वेतन भी देते थे, जिससे पण्डितजीकी आजीविकाका प्रबन्ध सुगम हो गया था । यह क्रम अनेक वर्षोंसे निरन्तर चला आ रहा था । एक दिवस राजाने पण्डितजीसे कहा, “विप्रवर, आपके मुखसे कथा श्रवण करते […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग : मातृ-पितृ भक्तिका फल


महर्षि कश्यपके कुलमें उत्पन्न ब्राह्मण श्रेष्ठ पिप्पल अत्यन्त धर्मात्मा एवं तपस्वी थे । इन्द्रिय संयम, पवित्रता तथा मनको वशमें रखना, उनका स्वभाव बन गया था । उनके तपके प्रभावसे उनके तपस्थली दशारण्यके वन्य जीव-जन्तुओंकी एक-दूसरेसे स्वाभाविक शत्रुता भी नष्ट हो गई थी तथा सभी प्रेमपूर्वक साथ-साथ रहते थे । पिप्पलने इतना कठोर तप किया कि […]

आगे पढें

भगवानका निवास


सृष्टिका निर्माण करनेके पश्चात, इस सृष्टिके रचनाकार विधाता, एक बहुत बडी दुविधामें पड गए । दुविधा और उद्विग्नताका कारण था उनकेद्वारा बनाया गया मनुष्य ! मनुष्योंके साथ कुछ भी अप्रिय होता तो वे सृष्टिके रचनाकारपर अपना क्रोध निकालते थे । जब भी कोई दुःख आता तो मनुष्य भगवानके द्वारपर खडे होकर अपने दुःख गिनाया करते […]

आगे पढें

अधिकार और उपदेश


“जैसे हो अधिकार वैसे करें उपदेश’’ इस कथन अनुसार सन्त मार्गदर्शन करते हैं । एक बार स्वामी रामकृष्ण परमहंसके पास एक भक्त आया । वह थोडा विचलित था ।  स्वामीजीने पूछा, “क्या हुआ ?” भक्तने कहा, “चतुष्पथपर (चौराहेपर) एक व्यक्ति आपको अपशब्द बोल रहा है ।” स्वामीजीने कहा, “वह तुम्हारे गुरुको अपशब्द कह रहा था […]

आगे पढें

चन्दनका उद्यान


एक राजा जो बहुत परोपकारी थे, उनके पास बहुत ही सुन्दर और विशाल चन्दनका उद्यान था, जिससे प्रत्येक वर्ष सहस्रों रुपयेका चन्दन अन्य देशोंको जाता था, जिससे तेल और पुष्पसार (इत्र) बनाए जाते थे । एक दिन, राजा उनके सैनिकोंके साथ घोडोंपर आरूढ (सवार) होकर अपने प्रजाजनकी स्थिति जाननेके उद्देश्यसे अपने राजभवनसे निकले । लौटते […]

आगे पढें

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution