प्रेरक प्रसंग

प्रेरक प्रसंग – नामजपकी महत्ता


एक बारकी बात है, राजा एवं महामन्त्रीने मार्गमें किसी ब्राह्मणको भिक्षा मांगते देखा । राजाने महामन्त्रीसे पूछा : यह क्या है ? महामन्त्रीने तत्काल कहा : महाराज ! भूला हुआ है । राजाने कहा : तो इस पण्डितको पथपर लाओ । महामन्त्रीने कहा : आ जाएगा, राजन ! परन्तु समय लगेगा । कृपया तीन माहकी […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग – ‘अन्त मति सो गति’


जो इच्छा कर ही मन माही, प्रभु कृपा कछु दुर्लभ नाहीं । एक बार नारदजीने भगवानसे प्रश्न किया कि प्रभु आपके भक्त निर्धन क्यों होते हैं ? तो भगवान बोले, “नारद जी ! मेरी कृपाको समझना बडा कठिन है ।” इतना कहकर भगवान नारदके साथ साधु भेषमें पृथ्वीपर पधारे और एक सेठजीके घर भिक्षा मांगनेके […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – जो सर्वश्रेष्ठ हो, बस वही ईश्वरको समर्पित हो !


एक नगरमे एक महात्माजी रहते थे और नदीके मध्य भगवानका मन्दिर था और वहां प्रतिदिन कई व्यक्ति दर्शनको आते थे और ईश्वरको चढाने हेतु कुछ न कुछ लेकर आते थे । एक दिवस महात्माजी अपने कुछ शिष्योंके साथ नगर भ्रमणको गए तो मध्य पथमे उन्होंने एक फलवालेके पास एक व्यक्तिको देखा, जो कह रहा था […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – सुदामाजीको दरिद्रता क्यों मिली ?


यदि आध्यात्मिक दृष्टिकोणसे देखा जाए तो सुदामाजी बहुत धनवान थे । जितना धन उनके पास था, किसीके पास भी नहीं था; परन्तु यदि भौतिक दृष्टिसे देखा जाए तो सुदामाजी बहुत निर्धन थे; अन्ततः ऐसा क्यों ? एक बहुत ही निर्धन ब्राह्मणी थी । भिक्षा मांगकर जीवनयापन करती थी । एक समय ऐसा आया कि पांच […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – बांके बिहारीजीका प्रेम


एक बार मैं रेलगाडीसे आ रहा था,  मेरे साथवाले स्थानपर एक वृद्ध स्त्री बैठी थी जो निरन्तर रो रही थी । मैंने बार-बार पूछा, “मां क्या हुआ,  मां क्या हुआ ?” बहुत पूछनेके पश्चात मांने एक ‘लिफाफा’ मेरे हाथमें रख दिया । मैंने ‘लिफाफा’ खोलकर देखा उसमें चार पेडे,  २०० रूपये और पुष्पसारसे (इत्रसे) सने […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – भगवान श्रीरामद्वारा हनुमानजीके अहङ्कारका शमन


  यह प्रसङ्ग उस समयका है जब भगवान श्रीरामने लंका पहुंचनेके लिए सेतु निर्माणके पूर्व समुद्र तटपर शिवलिङ्ग स्थापित किया था । जब समुद्रपर सेतुबन्धनका कार्य हो रहा था तब भगवान श्रीरामने वहां गणेशजी तथा नौ ग्रहोंकी स्थापनाके पश्चात शिवलिङ्ग स्थापित करनेका विचार किया । उन्होंने शुभ मुहूर्तमें शिवलिङ्ग लाने हेतु हनुमानजीको काशी भेजा । […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – भील-भीलनीकी शिव भक्ति


  सिंहकेतु, पाञ्चाल देशका एक राजा था । वह परम शिवभक्त था । शिवकी आराधना एवं आखेट (शिकार) उसके दो प्रिय विषय थे । वह प्रतिदिन आखेटके उद्देश्यसे वनमें जाता था । एक दिवस घने वनमें सिंहकेतुको एक ध्वस्त मन्दिर दिखा । राजा आखेटकी धुनमें आगे बढ गया; किन्तु सेवक भीलने ध्यानसे देखा तो वह […]

आगे पढें

प्रेरक प्रसंग – किशोरीके नामकी महिमा है अनन्त


एक सन्त थे वृन्दावनमें रहा करते थे, श्रीमद्भागवतमें उनकी बडी निष्ठा थी, उनका प्रतिदिनका नियम था कि वे प्रतिदिन एक अध्यायका पाठ किया करते थे और राधारानीजीको अर्पण करते थे । ऐसे करते करते उन्हें ५५ वर्ष बीत गए; परन्तु उनका एक दिन भी ऐसा नहीं गया, जब राधारानीजीको भागवतका अध्याय न सुनाया हो । […]

आगे पढें

प्रेरक कथा – सन्त तुकारामद्वारा शिष्यका दोष निर्मूलन


एक अवसरका प्रसङ्ग है, सन्त तुकाराम महाराजके आश्रममें स्वभावदोषकी चर्चाके मध्य उनके एक शिष्यने, जो स्वभावसे कुछ उग्र था उनसे यह प्रश्न पूछा कि गुरुदेव, अत्यन्त विषम परिस्थितियोंमें भी आप पूर्णतः शान्तचित्त एवं सामान्य व्यवहार ……

आगे पढें

प्रेरक कथा – गुरु गूंगे, गुरु बावरे, गुरुके रहिए दास !


एक बारकी बात है नारदजी विष्णु भगवानजीसे मिलने गए । भगवानने उनका बहुत सम्मान किया । जब नारदजी चले गए तो विष्णुजीने कहा, “हे लक्ष्मी ! जिस स्थानपर नारदजी बैठे थे । उस स्थानको गायके गोबरसे लीप दो । जब विष्णुजी यह बात कह रहे थे तब नारदजी बाहर ही खडे थे । उन्होंने सब […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution