शंका समाधान

क्या कलियुगमें समद्रष्टा सन्त होते हैं?


एक पाठकने लिखा है कि कलियुगमें समद्रष्टा सन्त होते ही नहीं है !
वस्तुत: कलियुगके कालमें यह धरा मात्र और मात्र ऐसे सन्तोंके कारण ही टिकी है ! कलियुगमें एक नहीं अनेक समद्रष्टा सन्त हुए हैं । किन्तु ऐसे सन्तोंसे मिलना…..

आगे पढें

एक पाठकने पूछा है कि धर्मकार्य किसे कहते हैं ?


जिससे कार्यसे जीवका ऐहिक और पारलौकिक कल्याण हो एवं जिससे समाज व्यवस्था उत्तम रहे उसे धर्म कहते हैं, यह परिभाषा आद्य गुरु शंकराचार्यने दी है ! वस्तुत: इस परिभाषा अनुरूप कार्यको ही धर्मकार्य कहना चाहिए ! वैसे यदि आप किसी सन्तके कार्यसे जुडकर सेवा करते हैं तो वह भी धर्मकार्यके ही श्रेणीमें आता है; क्योंकि […]

आगे पढें

क्या दुर्जनोंको प्रेमसे समझाकर परिस्थितिको परिवर्तित नहीं किया जा सकता है ?


एक पाठकने पूछा है, “व्यवस्था परिवर्तनके लिए क्रान्ति क्यों ? क्या दुर्जनोंको प्रेमसे समझाकर परिस्थितिको परिवर्तित नहीं किया जा सकता है ?” उत्तर बडा सरल है, क्या प्रभु श्री रामने और भगवान श्री कृष्णने रावण और दुर्योधनको प्रेमसे सुधारनेकी शिक्षा नहीं दी थी ?; परन्तु परिणाम क्या हुआ ? जब अवतारी राम और परमेश्वर सदृश […]

आगे पढें

शंका समाधान – समर्पित शिष्यके ऊपर नहीं लागू होते हैं पञ्च महाऋण !

कलके मेरे निम्नलिखित लघु लेखपर एक पाठकने कहा है कि आपका यह लघु लेख शास्त्र सम्मत नहीं है क्योंकि उनके अनुसार (उन पाठक महोदयके अनुसार) मनुष्यके लिये नित्य कर्मके बाद ही अन्य नैमित्तिक कर्म, काम्य अनुष्ठान, जप आदिकी पात्रता आती है ।


कलके मेरे निम्नलिखित लघु लेखपर एक पाठकने कहा है कि आपका यह लघु लेख शास्त्र सम्मत नहीं है क्योंकि उनके अनुसार (उन पाठक महोदयके अनुसार) मनुष्यके लिये नित्य कर्मके बाद ही अन्य नैमित्तिक कर्म, काम्य अनुष्ठान, जप आदिकी पात्रता आती है । अनिवार्य नित्य कर्म इस प्रकार  हैं – (१) स्नान, (२) नित्य स्नानांग तर्पण, (देवता,ऋषि,पितर) […]

आगे पढें

हिन्दू धर्म संकीर्णता नहीं, अपितु व्यापकताकी सीख देता है !

कुछ व्यक्ति हमारे साधकोंसे पूछते हैं कि आपने ‘जागृत भव’ जो हमारे व्हाट्सऐप्प गुटका नाम है, उसे अंग्रेजीमें क्यों लिखते हैं, उसे हिंदी भाषामें लिखें, यह सात्त्विक कृत्य होगा ! 


कुछ व्यक्ति हमारे साधकोंसे पूछते हैं कि आपने ‘जागृत भव’ जो हमारे व्हाट्सऐप्प गुटका नाम है, उसे अंग्रेजीमें क्यों लिखते हैं, उसे हिंदी भाषामें लिखें, यह सात्त्विक कृत्य होगा…

आगे पढें

कुलमें ज्येष्ठोंके धर्मविमुख होनेपर अन्य सदस्य पितृदोष निवार्णार्थ क्या करें ?

शंका समाधान
श्री नीरज मिश्रने (मिश्रा लिखना यह भाषाकी दृष्टिसे अयोग्य, यह अंग्रेजोंके कालसे आरम्भ हुआ; क्योंकि अंग्रेजीमें मिश्रको 'Mishra' लिखा जाता है) कल प्रसारित किए गए सत्संगके सन्दर्भमें जिसका विषय था, 'यदि घरमें बडे भाई पितरोंका श्राद्ध करते हों तो छोटे भाइयोंको क्या करना चाहिए ?', एक प्रश्न पूछा है, जो इसप्रकार है -
मैं इन सबपर अर्थात धर्म आदिपर बहुत विश्वास करता हूं और मुझे लगता है कि मेरे घरमें पितृदोष बहुत है; परन्तु मेरे बडे भाई जो मेरे पिताजीका श्राद्ध करते हैं, वे इन सबपर विश्वास नहीं करते और सब कुछ देर-सवेर नाममात्रका अर्थात करना चाहिए इसलिए करते हैं और इसी कारणसे हमारा कोई कार्य भी नहीं हो पा रहे हैं, कृपया मार्गदर्शन करे ।


मैं इन सबपर अर्थात धर्म आदिपर बहुत विश्वास करता हूं और मुझे लगता है कि मेरे घरमें पितृदोष बहुत है; परन्तु मेरे बडे भाई जो मेरे पिताजीका श्राद्ध करते हैं, वे इन सबपर विश्वास नहीं करते और सब कुछ देर-सवेर नाममात्रका……

आगे पढें

शंका समाधान


‘पुरोहित बननेके लिए आवश्यक घटक’, इस लेखसे सम्बन्धित एक व्यक्तिने अपनी शंकाका व्यक्त करते हुए पूछा है कि क्या मात्र उत्तर भारतके पण्डितोंके संस्कृतके उच्चारण ठीक नहीं होते हैं ?…..

आगे पढें

‘श्रीगुरुदेव दत्त’का जप क्यों आवश्यक ?

प्रश्न : आपके जालस्थलमें (www.vedicupasanapeeth.org) 'श्रीगुरुदेव दत्त' जपके विषयमें पढा, मैं यह जानना चाहता हूं कि क्या ‘श्रीगुरुदेव दत्त’का जप करनेसे हमारी अध्यात्मिक प्रगति हो सकती है ? – श्री रवि बेल्सारे, पुणे, महाराष्ट्र


‘श्रीगुरु देव दत्त’का जप दत्तात्रेय देवताका जप है, ये एक उच्च कोटिके देवता हैं । यदि ये हमारे कुलदेवता या इष्टदेवता हों तो इनके जपसे निश्चित ही हमारी अध्यात्मिक प्रगति हो सकती है …….

आगे पढें

दत्तात्रेय देवता कौन हैं ? (भाग- ६)


दत्तात्रेय शीघ्र कृपा करनेवाले देवताकी साक्षात मूर्ति कहे जाते हैं ।  परम भक्त वत्सल दत्तात्रेय, भक्तके स्मरण करते ही उसके पास पहुंच जाते हैं, इसीलिए इन्हें ‘स्मृतिगामी’ तथा ‘स्मृतिमात्रानुगन्ता’ भी…..

आगे पढें

दत्तात्रेय देवता कौन हैं ? (भाग- ५)


दत्तात्रेयने कई वर्षों तक अपने पिता अत्रि मुनिके आश्रममें रहनेके पश्चात एक दिन अपने माता-पितासे तीर्थाटनकी अनुमति मांगी । माता-पिता थोडे दुःखी हुए । तब दत्तात्रेयने कहा कि आप जब मुझे स्मरण करेंगे, उसी क्षण मैं उपस्थित हो जाऊंगा……

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution