देवस्तुति

दुर्गा स्तुति


रौद्रायै नमो नित्यायै गौर्यै धात्र्यै नमो नमः । ज्योत्स्नायै चेन्दुरुपिण्यै सुखायै सततं नमः ॥ अर्थ : रौद्राको नमस्कार है । नित्या, गौरी एवं धात्रीको बारम्बार नमस्कार है । ज्योत्स्नामयी, चन्द्ररूपिणी एवं सुखस्वरूपा देवीको सतत प्रणाम है ।

आगे पढें

दुर्गा स्तुति


सर्वमंगलमांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तुते ।। अर्थ : मंगल वस्तुओंमें मंगलरूप, कल्याणदायिनी, सर्व पुरुषार्थ साध्य करानेवाली, शरणागतोंका रक्षण करनेवाली हे त्रिनयने, गौरी, नारायणी ! आपको मेरा नमस्कार है ।

आगे पढें

श्रीराम स्तुति


शान्तं शाश्वतमप्रमेयमनघं निर्वाणशान्तिप्रदं
ब्रह्माशंभुफणीन्द्रसेव्यमनिशं वेदांतवेद्यं विभुम्‌।
रामाख्यं जगदीश्वरं सुरगुरुं मायामनुष्यं हरिं
वन्देऽहं करुणाकरं रघुवरं भूपालचूडामणिम्‌ ॥……

आगे पढें

दुर्गा स्तुति


  नमो   देव्यै   महादेव्यै  शिवायै   सततं  नमः | नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणताः स्म ताम् || अर्थ : उन देवीको नमन है जो देवियोंकी देवी है, जो शिवकी प्रिया हैं | उन देवीके हम शरणागत हैं, उन्हें वंदन हैं, जो सृष्टिमें प्रकृति स्वरूपमें व्याप्त हैं और जो मंगलदायिनी हैं !

आगे पढें

महालक्ष्मी अष्टकम्


नमस्तेस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते ।
शङ्खचक्रगदाहस्ते महालक्ष्मि नमोस्तु ते ॥१॥
अर्थ :
इन्द्र बोले – श्रीपीठपर स्थित और देवताओंसे पूजित होनेवाली हे महामाये, तुम्हें नमस्कार है। हाथमें शङ्ख, चक्र और गदा धारण करनेवाली हे महालक्ष्मी, तुम्हें प्रणाम है ।…….

आगे पढें

विष्णु स्तुति


क्षीरोदन्वत्प्रदेशे शुचिमणिविलसत्सैकते मौक्तिकानां मालाकॢप्तासनस्थः स्फटिकमणिनिभैर्मौक्तिकैर्मण्डिताङ्गः। शुभ्रैरभ्रैरदभ्रैरुपरिविरचितैर्मुक्तपीयूष वर्षैः आनन्दी नः पुनीयादरिनलिनगदा शङ्खपाणिर्मुकुन्दः।। अर्थ : भक्तोंको मोक्ष प्रदान करनेवाले उन शेषशायी विष्णुको नमन कर उन्हें हमें पवित्र करने हेतु प्रार्थना करते हैं जो क्षीरसागरमें जहां चमकते हुए स्फटिक मणियोंके मध्य मोतियोंकी मालासे सुशोभित सिंहासनपर आरूढ हैं, जो श्वेत मेघरूपी छत्रसे आच्छादित हैं और वे मेघ ऐसे अमृत […]

आगे पढें

विष्णु स्मरण


तदेव लग्नं सुदिनं तदेव
ताराबलं चंद्रबलं तदेव |
विद्याबलं दैवबलं तदेव
लक्ष्मीपते तेंघ्रियुगं स्मरामि ||…….

आगे पढें

त्रिपुरसुन्दरी अष्टकम्


त्रिपुरसुन्दरी अष्टकम् ॥ कदम्बवनचारिणीं मुनिकदम्बकादम्बिनीं नितम्बजितभूधरां सुरनितम्बिनीसेविताम् । नवाम्बुरुहलोचनां अभिनवाम्बुदश्यामलां त्रिलोचनकुटुम्बिनीं त्रिपुरसुन्द्रीमाश्रये ॥ १ ॥ कदम्बवनवासिनीं कनकवल्लकीधारिणीं महार्हमणिहारिणीं मुखसमुल्लसद्वारुणीम् । दयाविभवकारिणीं विशदलोचनीं चारिणीं त्रिलोचनकुटुम्बिनीं त्रिपुरसुन्दरीमाश्रये ॥ २ ॥ कदम्बवनशालया कुचमरोल्लसन्मालया कुचोपमितशैलया गुरुकृपालसद्वेलया । मदारुणकपोलया मधुरगीतवाचालया कयाऽपि घननीलया कवचिता वयं लीलया ॥ ३ ॥ कदम्बवनमध्यगां कनकमण्डलोपस्थितां षडम्बुरुहवासिनीं सततसिद्धसौदामिनीम् । विडम्बितजपारुचिं विकचचन्द्रचूडामणीं त्रिलोचनकुटुम्बिनीं त्रिपुरसुन्दरीमाश्रये ॥ ४ ॥ […]

आगे पढें

॥ भज गोविन्दम् ॥


भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भज मूढमते । संप्राप्ते सन्निहिते काले नहि नहि रक्षति डुकृञ्करणे ॥ १ ॥ मूढ जहीहि धनागमतृष्णां कुरु सद्बुद्धिं मनसि वितृष्णाम् । यल्लभसे निजकर्मोपात्तं वित्तं तेन विनोदय चित्तम् ॥ २ ॥ नारीस्तनभर नाभीदेशं दृष्ट्वा मागामोहावेशम् । एतन्मांसावसादि विकारं मनसि विचिन्तय वारं वारम् ॥ ३ ॥ नलिनीदलगत जलमतितरलं तद्वज्जीवितमतिशयचपलम् । विद्धि व्याध्यभिमानग्रस्तं लोकं शोकहतं […]

आगे पढें

हनुमान स्तुति


बुद्धिर्बलं यशो धैर्यं निर्भयत्वमरोगता। अजाड्यं वाक्पटुत्वं च हनूमत्स्मरणाद्भवेत् ।। अर्थ : हनुमानजीका समरण करनेसे हमें बुद्धि, बल, धैर्य, निर्भयता, आरोग्य , विवेक एवं वाकपटुताकी प्राप्ति होती है !

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution