अध्यात्म

कलियुगी गुरु-शिष्य सम्बन्धमें शिष्य यदि अधिक गुणवान हो तो वह गुरुसे आगे निकल जाता है !


कलियुगी गुरु-शिष्य सम्बन्धमें शिष्य यदि अधिक गुणवान हो तो वह गुरुसे आगे निकल जाता है, इसकी मैंने प्रतीति कुछ दिवस पूर्व ली है । मैं एक गुरु-शिष्यसे मिली । गुरुका आध्यात्मिक स्तर ४५% था और शिष्यका ५०% । जब मैंने यह जानना चाहा कि यह कैसे सम्भव हुआ ? तो ज्ञात हुआ कि शिष्यने जब […]

आगे पढें

बच्चोंके आध्यात्मिक कष्ट हेतु उन्हें दें नामजप करते हुए स्पर्श चिकित्सा !


आजकल अनके बच्चोंको गर्भसे अनिष्ट शक्तियोंका कष्ट होता है, इसकारण गर्भवती माताको या तो भिन्न प्रकारका कष्ट होता है या गर्भस्थ शिशुको होता है या जन्मसे पूर्व या जन्मके पश्चात कष्ट होता है । कुछ दिवस पूर्व मैं नासिक गई थी, वहां भी एक दो वर्षीय बच्चेको जब देखा तो ज्ञात हुआ कि उसके ऊपर […]

आगे पढें

साधको ! आश्रममें आकर पूछ-पूछकर सेवा करनेकी वृत्ति निर्माण करें !


कुछ समय पूर्व उपासनाके आश्रममें एक भण्डारेका आयोजन किया गया था । एक व्यक्तिको सूचना मिलनेपर वह भी आश्रममें सेवा हेतु आए थे । आश्रममें आनेपर जब भण्डारेमें उन्हें कुछ सेवा दी गई तो बिना किसीसे पूछे उन्होंने ‘कैटरिंग’वालेको आनेकी सूचना दे दी । जब उनसे पूछा गया कि आप सेवा क्यों नहीं कर रहे […]

आगे पढें

सन्त कार्य अनुरूप सब देते है इसकी प्रतीति !


सन्त कार्य अनुरूप सब देते है इसकी पुनः प्रतीति मिली ! एक बार पुनः एक सन्तने मुझे एक सहस्र रुपये दिए । ६ अक्तूबरको इसी वर्ष मैं एक सिद्ध सन्त, सांगी बावडी स्थित हनुमान मन्दिरके महन्त पूज्य श्रीमनोहरदासजी महाराज आश्रममें गई थी । उन्होंने उस दिवसमें मुझे एक सहस्र रुपये दिए । मैंने उन्हें बताया […]

आगे पढें

भारत आज भी एक आध्यात्मिक देश है !


हमारे श्रीगुरुने एक बार कहा था कि भारत आज भी एक आध्यात्मिक देश है । यहां प्रत्येक जनपदके उपखण्डमें आज भी योगी, सिद्ध और सन्त रहते हैं । धर्मप्रसारके मध्य मैं, गुरुकृपासे ऐसे अनेक अध्यात्मविदोंसे मिली हूं । ऐसे ही एक सिद्ध पुरुषसे हमारी भेंट इस बार जानापावके महन्त परम पूज्य बद्रीनन्द बाबाके देहत्यागके उपरान्त […]

आगे पढें

वास्तु क्या है ?


जिस स्थानपर भी चार भीत्तिकाएं (दीवारें) खडी हो जाएं, उसे वास्तु कहते हैं और वहां जो शक्ति निर्मित हो जाती है, उसे वास्तु देवता कहते हैं । आजकल ‘वास्तु’, यह शब्द एक शोभाचार (फैशन) समान प्रचलित हो गया है और अनेक ढोंगी इस शास्त्रका आधार ले, समाजको दिशाहीनकर, उन्हें लूटते हैं; अतः सर्व-सामान्य व्यक्तियोंको इसके […]

आगे पढें

समाचारपत्र पढकर अपने दिवसका शुभारम्भ न करें ! 


साम्प्रतकालमें समाचारपत्रोंमें अधिकतर तमोगुणी समाचार जैसे भ्रष्टाचार, लूटपाट, दुर्घटना, चोरी, बलात्कार इत्यादिके ही वृत्त होते हैं, इसे प्रातःकालके समय पढनेसे हमारी सूक्ष्म देह अर्थात मन एवं बुद्धिपर काला आवरण आ जाता है और सम्पूर्ण दिवस, यह अनावश्यक आवरण हमारी बौद्धिक एवं मानसिक क्षमताको घटा देता है और मनको अशान्त रखता है; इसीलिए दिवसका शुभारम्भ कुछ […]

आगे पढें

माता-पिताके कर्मोंका फल सन्तानोंको कुछ अंश तो भोगना ही पडता है


 धर्मप्रसारके मध्य मैंने पाया है कि जिनके भी माता-पिता किसी हिन्दूद्रोही पन्थ, संस्था या संगठनसे हों  या कोई राष्ट्रद्रोही संस्थामें क्रियाशील रहे हों, उन्हें तो कष्ट होता ही है, उनके बच्चोंको भी आध्यात्मिक कष्ट होता है । मेरे पास इसके अनेक उदाहरण हैं । वहीं सन्त या गुरुके मार्गदर्शनमें राष्ट्र व हिन्दू धर्म सम्बन्धित कार्य […]

आगे पढें

किसीके कष्ट दूर करने हेतु प्रार्थना करनेके सन्दर्भमें दृष्टिकोण !


जब हम किसी व्यक्तिके व्यक्तिगत कष्ट दूर करने हेतु प्रार्थना करते हैं और यदि हमारा आध्यात्मिक स्तर ६०% से न्यून हो तो हमारी साधना द्रुतगतिसे व्यय होती है; क्योंकि क्षमता न होते हुए भी हम या तो उस व्यक्तिके प्रारब्धमें हस्तक्षेप कर रहे होते हैं या उस व्यक्तिको कष्ट देनेवाली अनिष्ट शक्तियोंसे उसे बचानेका प्रयत्न […]

आगे पढें

गुरुकृपा और देवता प्रसन्न होनेका प्रभाव !


यदि हमारे ऊपर गुरुकृपा हो, वास्तु देवता, स्थान देवता, कुलदेवता एवं अन्य देवता प्रसन्न हों और हम कुछ कार्य करें तो उसपर कैसे प्रभाव पडता है ?, यह आपको बताती हूं ! पिछले दो वर्षसे उपासनाके आश्रमका निर्माण कार्य चल रहा है तो कई बार वर्षाकालमें कुछ ऐसा कार्य होता है कि यदि उस समय […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution