अध्यात्म

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१८)


स्थान देवताके समान ग्राम देवताका भी प्रसन्न रहना समाजके समष्टि सुखी जीवन हेतु आवश्यक होता है । धर्मप्रसारके मध्य कुछ समय मैं ग्रामीण क्षेत्रोंमें भी रही हूं । वहां मैंने देखा कि वार्षिक उत्सव ग्राम देवताको प्रसन्न करनेके लिए होता है, जिसमें प्रत्येक ग्रामीण अपनी-अपनी …..

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग – १७)


पिछले अंकमें हमने बताया था कि स्थान देवताओंका हमारे समष्टि जीवनको सुखी बनाए रखनेमें अत्यधिक महत्त्व होता है । मुंबईमें हमारे एक साधक है, वे मुंबई महानगपलिकामें सेवारत हैं । अभी कुछ दिवस पूर्व ही ‘एक भयावह झंझावात ……

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१६)


जिस प्रकार पिछले एकसे डेढ माहमें पृथ्वी अनेक बार हिल चुकी है ऐसी स्थितिमें देवता ही हमारा रक्षण कर सकते हैं इस हेतु हमारे स्थान देवता, ग्राम देवता, वास्तु देवता, कुल देवता, गुरु सभीकी कृपा अति आवश्यक है ……

आगे पढें

गुरु कृपा पाना ब्रह्माण्डका सबसे कठिन कार्य !


कुछ लोग सन्तोंके लिए कुछ भी करते नहीं है; किन्तु उनसे कहते हैं कि आप कृपा करें इससे हमारा उद्धार हो जाएगा । ऐसे सभी लोगोंको बता दें कि सन्तोंने कठोर साधना कर गुरुकृपा प्राप्त की होती है; इसलिए वे भी सुपात्रपर ही अपनी कृपा बरसाते हैं । किसीके बोलनेसे कृपा बरसती नहीं है ! […]

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१५)


आपको तो ज्ञात ही होगा कि पिछले एक माहमें पृथ्वी १५० से अधिक बार हिल चुकी है अर्थात भूकम्पके झटके अनुभव किए गए हैं | इसलिए अपने घरको अपने गुरुका आश्रम या आपके आराध्यका मंदिर है, यह समझकर उसमें रहें ! वे हमें सतत देख रहे हैं, ऐसा भाव रखें ……

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१४)


आजकल भोजनालयमें जाकर खानेका प्रचलन बहुत अधिक बढ गया है । मैंने देखा अब तो छोटे नगरोंमें भी चलन बढ गया है । अनेक बार भोजनालयमें यदि हम अधिक भोजन मंगवा लेते हैं और उसे खा नहीं सकते हैं तो उसे घर ले जाने हेतु बंधवा लेते हैं । घर आनेपर भी भूख न होनेपर …….

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१३)


अनेक घरोंमें अतिथि जब आते हैं तो उन्हें चाय और नमकीन देते हैं । कई बार अतिथि उसे थोडा खाकर छोड देते हैं तो घरकी स्त्रियां उसे पुनः अन्नपूर्णा कक्षमें ले जाकर, वह डिब्बेमें डाल देती हैं । पूछनेपर कहती हैं कि यह सूखा था; इसलिए ……

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न ! (भाग-१०)


अन्नपूर्णा कक्षमें रोटी बनानेके पश्चात प्रथम रोटी गायको देनी चाहिए तथा अन्तिम रोटीपर कुत्तेका अधिकार होता है ।
उसी प्रकार आटा या चावल पकाने हेतु निकालते समय उसे एक मुट्ठी पहले किसी पात्रमें निकालकर रखें ……

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न (भाग-१३)


अनेक घरोंमें अतिथि जब आते हैं तो उन्हें चाय और नमकीन देते हैं । कई बार अतिथि उसे थोडा खाकर छोड देते हैं तो घरकी स्त्रियां उसे पुनः अन्नपूर्णा कक्षमें ले जाकर, वह डिब्बेमें डाल देती हैं । पूछनेपर कहती हैं कि यह सूखा था; इसलिए जूठा नहीं हुआ । वैसे तो वह जूठा ही […]

आगे पढें

आपातकालमें देवताको ऐसे करें प्रसन्न ! (भाग-१२)


रात्रिकालमें प्रसाद पानेके (भोजन ग्रहण करनेके) पश्चात सभी पत्रोंको स्वच्छकर अन्नपूर्णा कक्षको व्यवस्थित करके ही सोएं ! यह बात हमने अपनी माताजीसे सीखी है । इससे प्रातः उठनेपर आपके लिए सब सेवा करना सरल ……

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution