अध्यात्म

साधकोंको बाहरका भोजन क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-६)


कट्वम्ललवणात्युष्णतीक्ष्णविदाहिनः । आहारा राजसस्येष्टा दुःखशोकामप्रयदाः ॥ यातयामं गतरसं पूति पर्युषितं च यत् । उच्छिष्टमपि चामेध्यं भोजनं तामसप्रियम् ॥ अर्थात ‘कडवे, खट्टे, लवणयुक्त, बहुत ‘गर्म’, तीखे, शुष्क (रूखे), दाहकारक और दुःख, चिन्ता तथा रोगोंको उत्पन्न करनेवाला आहार अर्थात भोजन, राजस पुरुषको प्रिय होते हैं । जो भोजन अधपका, रसरहित, दुर्गन्धयुक्त, बासी और जूठा है तथा जो […]

आगे पढें

साधकोंको बाहरका भोजन क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-५)


आजकल भारतीय आधुनिक भोजनालयका (होटलका) भोजन बहुत प्रेमसे खाते हैं । इसका प्रचलन पिछले दस वर्षोंमें अत्यधिक बढ गया है और अब तो छोटे नगरोंमें भी यह वृत्ति बढ रही है जो बहुत ही दुखद है । यूरोप धर्मयात्राके मध्य ऑस्ट्रियाके साल्जबर्ग महानगरमें एक साधकके घर रुकना हुआ । वे पहले भोजनालय चलाते थे । […]

आगे पढें

साधकोंको बाहरका भोजन क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-४)


ईश्वर प्राप्ति हेतु इच्छुक साधकोंको, पवित्र विचार और अपनी इन्द्रियोंको वशमें रखनेवाला तथा चैतन्य प्राप्त करने हेतु सात्त्विक आहार लेना चाहिए । आयुः सत्त्वबलारोग्यसुखप्रीतिविवर्धनाः । रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्याआहाराःसात्त्विकप्रियाः ॥ – भगवद्गीता ‘आयु, बुद्धि, बल, आरोग्य, सुख और प्रीतिको बढानेवाला रसयुक्त, चिकना और स्थिर रहनेवाला तथा स्वभावसे ही मनको प्रिय, ऐसा आहार अर्थात खाद्य पदार्थ […]

आगे पढें

बाहरका भोजन साधकोंने क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-३)


भोजनके तीन भाग होते हैं, स्थूल भाग मल बनता है, मध्यमसे रक्त, रस, मांस और सूक्ष्मसे मन बनता है । इसलिए कहा गया है ‘जैसा खाए अन्न वैसे रहे मन !’ बाहरका अन्नको ग्रहण करनेसे पूर्व चिन्तन करना चाहिए कि क्या यह अन्न खाना मेरे लिए अति आवश्यक है ? यदि ऐसा हो तो ही […]

आगे पढें

बाहरका भोजन साधकोंने क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-२)


साधना अर्थात तमसे रज, उसके पश्चात रजसे सत्त्व गुणकी ओर बढना है तभी हम त्रिगुणातीतकी ओर बढ सकते हैं । जो साधक इस सिद्धान्तको आत्मसात कर लेता है वह अध्यात्मके सर्वोच्च पदको साध्य कर सकता है । हिन्दू धर्ममें त्रिगुणातीत होना अन्य पन्थोंकी तुलनामें अल्प समयमें सम्भव है; क्योंकि हिन्दू धर्मकी दैनिक प्रणालीमें सत्त्वगुणकी वृद्धि […]

आगे पढें

बाहरका भोजन साधकोंने क्यों नहीं करना चाहिए ? (भाग-१)


धर्मप्रसारके मध्य अनेक घरोंमें रहना होता है और इस मध्य मैंने देखा है कि यह जानते हुए भी बाहरका बना हुआ भोजन नहीं करना चाहिए तब भी वे इसे ग्रहण करते हैं; इसलिए यह लेखमाला आरम्भ कर रही हूं । एक सरलसा सिद्धान्त ध्यानमें रखें कि हम जो भोजन ग्रहण करते हैं, वह हमारी स्थूल […]

आगे पढें

वस्त्र धोते समय ध्यानमें रखने योग्य तथ्य !


साधको ! इस ब्रह्माण्डमें खरे सन्तोंकी संख्या नगण्य ही है, ऐसेमें यदि आपको कभी सन्तोंके वस्त्र धोनेका सौभाग्य प्राप्त हो तो उसे अपने हाथोंसे भावपूर्वक धोएं ! सन्तोंकी देहसे स्पर्श होनेके कारण उनके वस्त्रोंमें अत्यधिक चैतन्य होता है, जो उनके वस्त्रमें चला जाता है । उन वस्त्रोंके अधिक समय स्पर्शसे, स्पर्श करने वालेपर आध्यात्मिक उपचार […]

आगे पढें

यदि अपने बच्चेको नृत्य सिखाना ही है तो भारतीय शास्त्रीय नृत्य सिखाएं !


धर्मप्रसारके मध्य मैंने पाया कि एक बच्चेके पालक, उसे आजकी आधुनिक नृत्य शैलीमें नृत्य सिखाने हेतु प्रयासरत थे । वह बच्चा उच्च स्तरका साधक है; इसलिए वह उस शैलीको त्वरित सीख गया; किन्तु आजके आधुनिक शैलीके नृत्यमें सात्त्विकता न होनेके कारण उस बच्चेको कष्ट होने लगा और उसकी ऊंचाई आयु अनुसार बढनी अवरुद्ध हो गई […]

आगे पढें

वाणी, मन एवं काया शुद्धि हेतु क्या करें ?


वाणीकी सिद्धि हेतु सत्यका अनुसरण करना चाहिए । अनेक सिद्धोंको वाक् सिद्धि होती है, यह उनके इस जन्म या पिछले जन्मके धर्मपालन या साधनाका परिणाम होता है । जो भी वचन बोले जाए वे व्यवहारमें पूर्ण हो, वह वचन कभी व्यर्थ न जाए, सदैव सत्य ही बोलना । प्रत्येक शब्दका महत्त्वपूर्ण अर्थ हो, वाक् सिद्धियुक्त […]

आगे पढें

गर्भपात क्यों न करें ? (भाग-४) 


वर्तमान शिक्षा नीतिमें हिन्दुओंको उनके धर्मशास्त्रोंके ज्ञानसे जानबूझकर सोची समझी रणनीतिके अन्तर्गत अनभिज्ञ रखा गया, जिससे वह नाम मात्र हिन्दू रह जाए और वह हुआ भी है; इसलिए आजका हिन्दू शिक्षित तो हो जाता है किन्तु धर्मनिष्ठ नहीं होनेके कारण उसका विवेक जाग्रत नहीं होता है और उससे अनेक बडे अपराध होते हैं, इसी श्रेणीमें […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution